कोरोनाकाल में नर्सों ने निभाया अहम रोल, सामाजिक संगठनों ने किया सम्मान

Corona period sachkahoon

जुलाना (सच कहूँ/ कर्मबीर)। कोरोना के दौरान (Corona Period) जहां लोग घर से बाहर निकलने में भी कतराते थे। ऐसे में कोरोना के दौरान स्वास्थ्य विभाग में ड्यूटी पर तैनात नर्सों ने अहम योगदान दिया और कोराना पर जीत हासिल की। नर्सों की हिम्मत और ज़ज्बे को देखते हुए कई बार सामाजिक संगठनों ने नर्सों को सम्मानित किया और कोरोना योद्धा का अवार्ड भी दिया गया। कोरोना के दौरान नर्सों ने गाँवों में जाकर लोगों को कोरोना की जांच और वैक्सीन लगवाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के अभियान में अहम् योगदान निभाया। नर्सों ने कोरोना के दौरान जो जिम्मेवारी निभाई उन्हीं की नजर से जानते हैं।

Amisha sachkahoonजुलाना के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में नर्स के पद पर कार्यरत नर्स अमिषा ने बताया कि कोरोना के दौरान वो कई बार संक्रमित भी हुई, फिर भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और नेगेटिव रिपोर्ट आते ही फिर से मरीजों की सेवा की। उन्होंने मानवता का फर्ज निभाते हुए अपनी ड्यूटी निभाई।अमिषा, नर्स।

Satwanti sachkahoon

सीएचसी ललित खेड़ा में नर्स के पद पर कार्यरत सतवंती ने बताया कि कोरोना के दौरान वो संक्रमित होने पर काफी दिन तक घर भी नहीं गई और अपने परिवार से पहले मरीजों की सेवा की और कोरोना (Corona Period) की लड़ाई में स्वास्थ्य विभाग की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए उन्होंनें लोगों को जागरूक करने में अहम् योगदान दिया। जिस पर कई सामाजिक संगठनों ने उन्हें सम्मानित किया। वो अपनी ड्यूटी से बेहद खुश हैं।

सतवंती नर्स।

babita sachkahoonकिलाजफरगढ़ निवासी नर्स बबीता ने बताया कि कोरोना के दौरान उन्होंने लोगों को काफी वैक्सीन की और मरीजों के सैंपल भी लिए। कई बार तो डर भी लगा, लेकिन अपनी ड्यूटी के आगे उन्होंने डर को पीछे रखा और पूरी कर्तव्य निष्ठा से अपनी ड्यूटी निभाई।

बबीता नर्स किलाजफरगढ़।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here