कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके लोगों के संक्रमित होने की संभावना 3 गुना कम

Coronavirus

नई दिल्ली (एजेंसी)। ब्रिटेन की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि जिन लोगों ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले ली हैं, उन्हें कोरोना होने की संभावना 3 गुना कम है। कोरोना को लेकर यूके की सबसे बड़ी स्टडीज में से एक, कम्युनिटी ट्रांसमिशन की रियल-टाइम असेसमेंट स्टडी, ने बताया कि इंग्लैंड में संक्रमण 0.15 प्रतिशत से चार गुना बढ़कर 0.63 प्रतिशत हो गया है। हालांकि 12 जुलाई से मामलों में कमी देखी गई है। (New Delhi News)

इंपीरियल कॉलेज लंदन और इप्सोस मोरी के विश्लेषण में 24 जून से 12 जुलाई के बीच इंग्लैंड में अध्ययन में भाग लेने वाले 98,000 से अधिक वॉलंटियर्स ने सुझाव दिया कि टीके की दोनों खुराक ले चुके लोगों से दूसरे में संक्रमण फैलने की संभावना भी कम होती है। यूके के स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने कहा कि, ‘हमारा टीकाकरण रोलआउट रक्षा की एक दीवार का निर्माण कर रहा है, जिसका अर्थ है कि हम प्रतिबंधों को सावधानी से कम कर सकते हैं और अपनी पसंदीदा चीजों पर वापस जा सकते हैं, लेकिन हमें सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि हम इस वायरस के साथ रहना सीख रहे हैं।

कोरोना के सभी वेरिएंट के खिलाफ प्रभावी वैक्सीन | New Delhi News

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड के डेटा से पता चलता है कि यूके में दी जा रही कोरोना वैक्सीन सभी वेरिएंट के खिलाफ ‘काफी प्रभावी’ है। इसके मुताबिक फाइजर वैक्सीन 96 फीसदी प्रभावी है और एस्ट्राजेनेका वैक्सीन दोनों खुराक के बाद 92 फीसदी प्रभावी है। पीएचई का अनुमान है कि इंग्लैंड में वैक्सीनेशन ने 22 मिलियन संक्रमण, लगभग 52,600 अस्पताल में भर्ती होने और 35,200 से 60,000 मौतों को रोका है। रिजल्ट से ये भी पता चलता है कि जिन लोगों ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है उन्हें कोरोना होने की संभावना तीन गुना कम है। यूके की स्वास्थ्य सेवा ने वैज्ञानिक सलाह के बाद 16 वर्ष और उससे अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए वैक्सीनेशन प्रोग्राम शुरू किया है।