बढ़ती मंहगाई ने बिगाड़ा थाली का जायका

0
266
inflation

आसमान छूते सब्जी के दामों ने बढ़ाई गृहणियों की चिंता

(Rising Inflation)

सच कहूँ/सुभाष ऐलनाबाद। लॉकडाउन में जहां सब्जी के दामों में भारी गिरावट देखने को मिली थी। वहीं अब अनलॉक के दौरान सब्जियों के बढ़ते दामों ने आमजन की थाली का जायका बिगाड़ दिया हैं। जिससे महामारी के चलते आर्थिक नुकसान झेल चुके लोगों पर महंगाई की मार पड़ रही है। सब्जियों के दामों में हो रही बढोत्तरी, बढ़ रही तेल की कीमतों को बताया जा रहा है। लॉकडाउन के बाद राहत के आसार लगाए बैठे लोगों का मानना है कि सब्जी मंडियों में सब्जियों के दाम भी आसमान छूने लगे हैं।

गौरतलब है कि ऐलनाबाद एरिया में भू-स्वामियों के द्वारा गेहूं फसल की कटाई व धान फसल की बिजाई के दरम्यान खाली पड़ी भूमि पर सब्जी की खेती की जाती है। जिससे सब्जियों के दामों में भारी गिरावट देखने को मिलती है। लेकिन जैसे ही धान की फसल का सीजन आता है किसान अपने-अपने खेतों में धान की फसल की खेती कर लेते हैं जिससे लोकल सब्जियां बंद होने के साथ बाहर की सब्जियां आनी शुरू हो जाती है। ट्रांसपोर्ट का खर्चा इत्यादि डालकर तब इनके भाव में उछाल आना संभावित है।

दो वक्त की रोटी खाना भी बना मुसीबत (Rising Inflation)

ऐलनाबाद की सब्जी मंडी की बात करें तो यहां सब्जियों के दाम दोगुने से भी ज्यादा बढ़ गए हैं। आशारानी, सुजाता रानी, सरोज वर्मा, सुलोचना, रानी कंवर व लीलु गृहणियों का कहना है कि सब्जियों के दाम हर रोज बढ़ रहे हैं और इसका सीधा नुकसान गरीब परिवारों को हो रहा है। अगर इसी तरह सब्जियों के दाम बढ़ते रहे तो दो वक्त की रोटी खाना भी मुसीबत के समान होगा।

ट्रांसपोर्ट लोडिंग और पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों का असर

सब्जी विक्रेता सोहन लाल ने बताया कि सब्जी के बढ़ रहे दामों को लेकर हम भी चिंतित हैं, क्योंकि जब सब्जियां लोकल आती है सस्ती होती है। हम सुबह लेकर आते हैं उस शाम को बिक जाती है, लेकिन जब सब्जियां महंगी हो जाती है, हम कम लेकर आते हैं उनमें भी शाम को बच जाती है। देर शाम तक बची हुई सब्जियां पशुओं को खिलाने पर हम मजबूर हो जाते हैं। सब्जी विक्रेताओं की माने तो लोकल सब्जियां, ट्रांसपोर्ट की लोडिंग और पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के कारण बढ़ रही है।

सब्जी          पहले         अब
बैंगन,          15          30
मटर,          80          100
शिमला,       20          80
तोरी,          10          40
मिर्च,         10          40
कद्दू,          10          30
गोभी,        20          60
ग्वार फली   50          70
टमाटर,     10          30
भिंडी,       15          40
टिंडा,       30          50

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।