प्यासी रूहें.. पुकार रही हैं, पिया मेरे कब आओगे

प्यासी रूहें.. पुकार रही हैं, पिया मेरे कब आओगे|
दर्शन की ये प्यास ओ रब्बा, आकर तुम्हीं बुझाओगे|

तेरे दीवाने, तेरी राहों में फूल बिछाए बैठे हैं|
ईद दिवाली साथ मनेगी, आस लगाए बैठे हैं|
पतझड़ के इस मौसम में कब बहारें लाओगे??
प्यासी रूहें.. पुकार रही हैं, पिया मेरे कब आओगे|
दर्शन की ये प्यास ओ रब्बा, आकर तुम्हीं बुझाओगे|

msg

बेरहम हुई दुनिया सारी, दया धर्म की बात नही|
सब लगता है सूना-सूना जब से तुम साथ नही|
सूख चुका आँखों का पानी कितना और रुलाओगे??
प्यासी रूहें.. पुकार रही हैं, पिया मेरे कब आओगे|
दर्शन की ये प्यास ओ रब्बा, आकर तुम्हीं बुझाओगे|

पूरी दुनिया इक पासे…. इक पासे प्यार तुम्हारा है|
इस धरती से उस अम्बर तक, तुम बिन कौन हमारा है|
दास तेरा ये पूछ रहा है, क्या- क्या तुम लिखवाओगे??
प्यासी रूहें.. पुकार रही हैं, पिया मेरे कब आओगे|
दर्शन की ये प्यास ओ रब्बा, आकर तुम्हीं बुझाओगे|

 त्रिदेव दुग्गल
युवा कवि एवं गीतकार
मुंढाल खुर्द (हरियाणा)

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here