आयी खुशी अब उसी की, जिस लिये थे तड़पे

msg

तड़पे जिनकी याद में जर्जर होया गात।
रोयी अकेली आँख ना, झर-झर रोया गात।

msg

झर-झर रोया गात, साथ में धरती अम्बर।
टप-टप पड़ती बूंद, मेघ भी बरसे झरझर।

msg

उमड़ी गंग-तरंग उमंग, बिरहा के हड़ पे।
आयी खुशी अब उसी की, जिस लिये थे तड़पे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here