प्रेम-मोहब्बत की राजनीति, दुश्मनी नहीं, पार्टियों में विचारधारा की लड़ाई : गहलोत

Ashok Gehlot
  • राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेल के जिला स्तरीय आयोजन का समापन समारोह

  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लिया हिस्सा, राजीव गांधी स्टेडियम में हुआ समारोह

हनुमानगढ़।(सच कहूँ न्यूज़) मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शनिवार को बीकानेर संभाग के दौरे के दौरान दोपहर को हनुमानगढ़ पहुंचे। यहां उन्होंने जंक्शन स्थित राजीव गांधी स्टेडियम में आयोजित राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेल के जिला स्तरीय आयोजन के समापन समारोह में हिस्सा लेकर खिलाडिय़ों का उत्साहवर्धन किया। मुख्यमंत्री ने विभिन्न खेलों के फाइनल मुकाबले देखे। राजस्थान कांग्रेस में उत्पन्न सियासी संकट के बीच शुक्रवार की रात्रि को ही दिल्ली से जयपुर लौटने के बाद बीकानेर संभाग के दौरे पर पहुंचे गहलोत ने हनुमानगढ़ में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि इतिहास गवाह है कि प्रेम-मोहब्बत की राजनीति होती है। दुश्मनी नहीं होती। पार्टियों में विचारधारा की लड़ाई है। कांग्रेस व विपक्षी पार्टियों के विचारधारा से सब वाकिफ हैं। इन सबके बीच सरकार ने राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेल का प्रयोग किया ताकि आपस में प्रेम व भाईचारा रहे।

यह भी पढ़ें:– उत्तराखंड से लापता नाबालिग युवती लुधियाना से बरामद

सीएम ने राजीव गांधी खेल प्रतियोगिता को हैप्पीनेस इंडेक्स का बेहतर जरिया करार देते हुए कहा कि इसे राजनीतिक नजरिए से नहीं देखना चाहिए, क्योंकि इसका आयोजन आपसी भेदभाव व तनाव को खत्म करने के मकसद से किया गया है। आज इस प्रतियोगिता में लाखों की तादाद में खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। ऐसे में यह हमारे लिए निश्चित रूप से खुशी का मौका है। अब तीसरा चरण पूरा होने राज्य स्तर पर प्रतियोगिता होगी जो अंतिम चरण होगा। राजीव गांधी ग्राणीण ओलंपिक से खुशनुमा माहौल बना है। जनता के सहयोग के बिना यह संभव नहीं था। राजीव गांधी ग्राणीण ओलंपिक की तर्ज पर ही अब जल्द ही शहरी ओलंपिक की शुरुआत होगी। हर साल यह खेल होंगे। इससे जिले में खेल का माहौल बनेगा। प्रतिभाएं निखरकर सामने आएंगी। खिलाड़ी अपने गांव-शहर का नाम रोशन करेंगे। खेलों को प्रोत्साहन देने का संकल्प सरकार ने लिया है। अब तक 229 युवाओं को नौकरी दी है। सीएम ने बताया कि पहले ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ी को मुश्किल से 30-40 लाख रुपए मिलते थे।

अब गोल्ड मेडल जीतने वाले खिलाडिय़ों को 3 करोड़ रुपए दिए जाएंगे। सीएम गहलोत ने कहा कि सरकार जो कहती है, करती है। हमसे जो मांगा वह दिया। हनुमानगढ़ में 350 करोड़ रुपए की लागत से मेडिकल कॉलेज बन रहा है। नर्सिंग कॉलेज, कृषि कॉलेज, कन्या महाविद्यालय के लिए सरकार ने छह करोड़ रुपए दिए। गहलोत ने कहा कि वे बचपन से ही अंग्रेजी के खिलाफ रहे लेकिन अब समझ में आया कि अंग्रेजी काम की है। अंग्रेजीवालों को बड़े पैकेज मिलते हैं। इसलिए राजस्थान के नौजवान पीछे क्यों रहें। 8-10 सालों में गांव के बच्चे अंग्रेजी में बात करने लगेंगे, इसके लिए सरकार प्रयासरत है। मंत्री लालचंद कटारिया ने अपने संबोधन में कहा कि मुख्यमंत्री की अच्छी सोच ने युवाओं को मौका दिया है। फसल बीमा के मुद्दे पर कटारिया ने कहा कि राजस्थान सरकार पैरवी कर रही है। भारत सरकार से शेयर मिलते ही गांवों में बीमा राशि बांटने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। नोहर विधायक अमित चाचाण ने राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेल को देश का सबसे बड़ा आयोजन करार देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गरीब को गणेश और किसान को भगवान मानने वाले नेता हैं।

चाचाण ने हनुमानगढ़ में चार साल में हुए विकास कार्यांे के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। साथ ही किसानों को उनके हक का पानी दिलाने की बात सीएम के सामने रखी। कार्यक्रम को जिला प्रभारी मंत्री गोविंदराम मेघवाल व भादरा विधायक बलवान पूनिया ने भी संबोधित किया। संबोधन के बाद कबड्डी का फाइनल मुकाबला हुआ। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित अन्य अतिथियों ने फाइनल मुकाबला देखा। इसके बाद अपराह्न करीब 3.30 बजे मुख्यमंत्री हवाई मार्ग के जरिए श्रीगंगानगर के लिए रवाना हो गए। इससे पहले भादरा विधायक बलवान पूनिया ने मुख्यमंत्री को पगड़ी पहनाकर स्वागत किया। मंचासीन अन्य अतिथियों को भी क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों ने पगड़ी पहनाई। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद महात्मा गांधी की वेशभूषा धरे बालक को मंच पर बुलाकर पगड़ी व सूत की माला उसे पहनाई।

आईजी-जिला कलक्टर ने की अगवानी

इससे पहले निर्धारित समय से करीब पन्द्रह मिनट की देरी से दोपहर करीब पौने दो बजे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का हेलीकॉप्टर सिविल लाइन में बनाए गए हैलीपेड पर उतरा। मंत्री लालचंद कटारिया व जिला प्रभारी मंत्री गोविंद राम मेघवाल भी उनके साथ थे। यहां बीकानेर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक ओमप्रकाश, जिला कलक्टर नथमल डिडेल व उपखण्ड अधिकारी डॉ. अवि गर्ग ने मुख्यमंत्री की अगवानी की। जिला कलक्टर डिडेल ने मुख्यमंत्री को बुके भेंट कर स्वागत किया। वहीं हैलीपेड के पास ही मुख्यमंत्री का राजस्थान राज्य अन्य पिछड़ा वर्ग वित्त एवं विकास आयोग जयपुर के अध्यक्ष (राज्य मंत्री) पवन गोदारा, विशेष योग्यजन आयोग आयुक्त (राज्य मंत्री) उमाशंकर शर्मा, राजस्थान स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट बोर्ड के सदस्य (राज्य मंत्री) मनीष धारणिया, जिला प्रमुख कविता मेघवाल, नोहर विधायक अमित चाचाण, भादरा विधायक बलवान पूनिया, पूर्व उप जिला प्रमुख शबनम गोदारा, राजेन्द्र मक्कासर, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष जितेन्द्र गोयल, जिला परिषद सदस्य प्रवीणा मेघवाल, नगर परिषद सभापति गणेश राज बंसल, उपसभापति अनिल खीचड़, निर्माण समिति अध्यक्ष सुमित रणवां, पूर्व सांसद भरतराम मेघवाल, डीसीसी के पूर्व अध्यक्ष सुरेन्द्र दादरी, पूर्व उपप्रधान राजेन्द्र प्रसाद, पार्षद मनोज सैनी, इशाक खान, नोहर पंचायत समिति प्रधान सोहन ढिल, डॉ. सौरभ राठौड़ सहित क्षेत्र के अन्य जनप्रतिनिधियों ने स्वागत किया।

जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री को सूत की माला पहनाई तो गहलोत ने वही माला जनप्रतिनिधियों को पहना दी। भादरा विधायक बलवान पूनिया ने जब सूत की माला मुख्यमंत्री को पहनाई तो गहलोत ने पूनिया को दोनों हाथों से पकड़कर गले लगा लिया। इस दौरान विभिन्न संगठनों से जुड़े लोगों ने मुख्यमंत्री को मांगपत्र भी सौंपे।

चुनावी वादे याद करवाने आए भाजपा कार्यकर्ता

उधर, भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को मुख्यमंत्री से मिलकर विभिन्न मांगों का ज्ञापन सौंपना चाहा तो प्रशासन व पुलिस के अधिकारियों की ओर से उन्हें समारोह स्थल पर नहीं जाने दिया गया। इस पर भाजपा कार्यकर्ता बीच रास्ते में ही सड़क पर धरना देकर बैठ गए। इस मौके पर पूर्व मंत्री डॉ. रामप्रताप, भाजपा जिलाध्यक्ष बलवीर बिश्नोई, पीलीबंगा विधायक धर्मंेद्र मोची, नोहर के पूर्व विधायक अभिषेक मटोरिया, भाजपा जिला महामंत्री जुगल किशोर गौड़, पार्षद गुरदीप सिंह बराड़, रणजीत सिंह आदि मौजूद थे। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष बलवीर बिश्नोई ने कहा कि चार साल पहले सत्ता हासिल करने के लिए जनता से वादा किया था कि किसान का सम्पूर्ण कर्जा माफ किया जाएगा। बेरोजगार को रोजगार दिया जाएगा। बिजली की दरें नहीं बढ़ाई जाएंगी। अब होगा न्याय कहा था। गहलोत के अलावा कांग्रेस पार्टी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी व सचिन पायलट ने भी इन चार वादों की घोषणा की थी। इन चार बातों के आधार कांग्रेस ने प्रदेश में सरकार बनाई। इन चार सालों के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत हनुमानगढ़ आए हैं।

आज भाजपा कार्यकर्ता मुख्यमंत्री को उनका वादा याद करवाने आए थे कि उन वादों पर वे खरे नहीं उतरे। प्रदेश में झूठ-मूठ की सरकार बनाई। बिश्नोई ने बताया कि हनुमानगढ़ जंक्शन एवं टाउन तथा आसपास के क्षेत्र के लिए 281 करोड़ रुपए की महत्ती योजना बनी थी। इस योजना के अन्तर्गत 40 फीट तक की ऊंचाई तक बिना पम्पिंग 24 घंटे शुद्ध पानी मिलना था, लेकिन कांग्रेस की सरकार आते ही वह योजना धराशाही हो गई। किसान की बिजाई का समय है लेकिन बाजार में डीएपी और यूरिया की किल्लत है। 2020-21 और और 2021-22 का फसल बीमा शेष है। सबसे दुखद स्थिति यह है कि गोमाता के नाम पर स्टाम्प ड्यूटी में 10 प्रतिशत चार्ज किया जाता है। लेकिन आज लम्पी बीमारी से जूझ रही गोमाता की हालत क्या है, यह किसी से छुपा नहीं है। वहीं पीलीबंगा विधायक धर्मंेद्र मोची ने कहा कि अब प्रदेश की सरकार सत्ता से जा रही है। इसलिए उनकी प्रदेश सरकार से मांग है कि वे जाते-जाते जनता से किए गए वादों को पूरा कर दें ताकि जनता उन्हें याद रखे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।