राहत : कड़ी मशक्कत के बाद शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग ने भरी सेमनाले की दरार

0
883

डेरा सच्चा सौदा प्रबंधन के नेतृत्व में 2 हजार से अधिक सेवादारों ने प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर किया कार्य

शक्कर मदोरी, शाहपुरिया और तरकांवाली में पानी भरने का मंडरा रहा था खतरा 

  • प्रशासन के साथ डेरा सच्चा सौदा प्रबंधन खुद भी मौके पर रहा मौजूद

सुनील वर्मा/भगत सिंह/सच कहूँ
नाथूसरी चोपटा।नाथूसरी चोपटा (सच कहूँ न्यूज)। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन शिक्षाओं पर चलते हुए एक बार फिर डेरा सच्चा सौदा की शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग फरिश्ता साबित हुई। दरअसल चोपटा क्षेत्र से गुजरने वाले हिसार घग्गर मल्टीपरपज ड्रेन सेमनाले में शनिवार को गांव शाहपुरिया के पास टूट गया था। ग्रामीणों के प्रयासों के बावजूद दरार भरी नहीं जा सकी। इस दौरान तेज बहाव के चलते पानी खेतों से होते हुए गाँव शाहपुरिया के आबादी वाले क्षेत्र तक पहुंच गया। इसके पश्चात प्रशासन को सहयोग देने के लिए देर शाम डेरा सच्चा सौदा की शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के सैंकड़ों सेवादार मौके पर पहुंचे व प्रशासन कर्मियों के साथ दरार भरने में जुट गए। कई घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद आखिर डेरा अनुयायियों ने रविवार को दरार को भर दिया, तब जाकर ग्रामीणों और प्रशासन ने राहत की सांस ली।

उपायुक्त अनीश यादव ने डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों का आभार जताया

इससे पूर्व रविवार सुबह उपायुक्त अनीश यादव ने मौके पर पहुंचकर दरार भरने में जुटे डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों और प्रशासन कर्मियों का हौंसला बढ़ाया और उनके कार्य की सराहना की। उन्होंने कहा कि सेमनाले में पीछे पानी कम करवाने के लिए उच्च अधिकारियों से बात हुई है, इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं। इसके साथ ही ग्रामीणों ने भी डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों का आभार व्यक्त किया।


बता दें कि प्रशासन के आग्रह पर देर शाम डेरा सच्चा सौदा प्रबंधन के साथ शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के सैकड़ों सेवादार पहुंचे और प्रशासन कर्मियों के साथ दरार भरने में जुट गए। एसडीएम जयवीर यादव और डेरा सच्चा सौदा के सीनियर वाइस चेयरमैन डॉ. पी.आर. नैन इन्सां मौके पर मौजूद रहकर पूरी स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं और सेवादारों और प्रशासनिक कर्मियों का मार्गदर्शन किया।

Dera

जानकारी के अनुसार गांव शाहपुरिया के पास शनिवार को सेमनाले में दरार आ गई, जिससे वहां पर सैकड़ों एकड़ में खड़ी ग्वार, बाजरे, नरमे, कपास की फसल जलमग्न हो गई। किसान दीवान चंद, धोलू राम के अनुसार शुक्रवार सुबह करीब 10 बजे सेम नाले में दरार आ गई थी। जिसको ग्रामीण व किसानों अपने स्तर पर पाट दिया था। लेकिन पानी के तेज बहाव के चलते शनिवार देर सायं एक बार फिर सेम नाला पीछे शाहपुरिया के पास से टूट गया। ग्रामीणों के प्रयासों के बावजूद जब दरार को भरा नहीं जा सका तो प्रशासन ने डेरा सच्चा सौदा प्रबंधन से सेम नाले में आई दरार को भरने में मदद का आग्रह किया। इस पर डेरा सच्चा सौदा प्रबंधन तुरंत शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के सैकड़ों सेवादारों को मौके पर लेकर पहुंचा।

सेवादारों ने मौके पर पहुंचते ही दरार को भरने का काम शुरू कर दिया। सेम नाले के तेज बहाव के चलते किसानों की सैकड़ों एकड़ फसलें डूब गई। इसके साथ ही पानी खेतों से होते हुए गांव शाहपुरिया के आबादी वाले क्षेत्र के नजदीक तक पहुंच चुका था। ग्रामीणों ने बताया कि पानी के तेज बहाव के चलते शक्करमंदोरी, शाहपुरिया और तरकांवाली गांवों में नुक्सान को खतरा बना हुआ था। प्रशासन और ग्रामीणों के साथ डेरा सच्चा सौदा की शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग सहित दो हजार से अधिक सेवादार सेम नाले में आई दरार को भरने का कार्य किया। इस दौरान एसडीएम जयवीर यादव, अधीक्षण अभियंता आत्मा राम भांभू, डेरा सच्चा सौदा के सीनियर वाइस चेयरमैन डॉ. पी.आर. नैन इन्सां, एक्सईएन मंदीप सिहाग, एक्सईएन एन.के. भोला, तहसीलदार गुरदेव सिंह सहित प्रशासनिक अधिकारी मौके पर मौजूद थे।

Dera-sacha-sauda.jpg-1

किसान दीवान चंद, धोलू राम के अनुसार शुक्रवार सुबह करीब 10 बजे सेम नाले में दरार आ गई थी। जिसको ग्रामीण व किसानों अपने स्तर पर पाट दिया था। लेकिन पानी के तेज बहाव के चलते शनिवार देर सायं एक बार फिर सेम नाला पीछे शाहपुरिया के पास से टूट गया। ग्रामीणों के प्रयासों के बावजूद जब दरार को भरा नहीं जा सका तो प्रशासन ने डेरा सच्चा सौदा प्रबंधन से सेम नाले में आई दरार को भरने में मदद का आग्रह किया। इस पर डेरा सच्चा सौदा प्रबंधन तुरंत शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के सैकड़ों सेवादारों को मौके पर लेकर पहुंचा। सेवादारों ने मौके पर पहुंचते ही दरार को भरने का काम शुरू कर दिया।

Dera Sacha sauda

सेम नाले के तेज बहाव के चलते किसानों की सैंकड़ों एकड़ फसलें डूब गई। इसके साथ ही पानी खेतों से होते हुए गांव शाहपुरिया के आबादी वाले क्षेत्र के नजदीक तक पहुंच चुका था। ग्रामीणों ने बताया कि पानी के तेज बहाव के चलते शक्करमंदोरी, शाहपुरिया और तरकांवाली गांवों में नुक्सान को खतरा बना हुआ था।

Dera-sacha-sauda.jpg

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।