गाजियाबाद में जिलास्तरीय ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में 3000 निवेशकों के 92 हजार करोड़ निवेश के प्रस्ताव

70 हजार करोड़ के निवेश के एमओयू हुए साइन

  • डबल इंजन की सरकार के प्रयासों से उत्तर प्रदेश को लगे विकास के पंख: डॉ जनरल वीके सिंह
  • सिंगल विंडो सिस्टम से हो रहा मिनटों में समस्याओं का हो रहा समाधान  

गाजियाबाद (सच कहूँ न्यूज़/रविंद्र सिंह)। गाजियाबाद के  होटल रेडिसन ब्लू में जिलास्तरीय  ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट- 2023 का भव्य आयोजन हुआ। इंवेस्टर्स समिट में  अपेक्षा से कहीं अधिक निवेश हुआ। मुख्य अतिथि केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ जनरल वीके सिंह, कैबिनेट मंत्री राकेश सचान,  राज्य मंत्री नरेंद्र कश्यप, महापौर आशा शर्मा सहित जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने दीप प्रज्वलित कर ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2023 का  शुभारंभ किया। केंद्रीय राज्य मंत्री सड़क परिवहन एवं राजमार्ग भारत सरकार डॉ जनरल वीके सिंह ने कहा कि डबल इंजन की सरकार  के प्रयासों से उत्तर प्रदेश को विकास के पंख लगे है। प्रदेश निरंतर विकास की ओर अग्रसर है। देश एवं विदेश की प्रतिष्ठित कंपनियों के द्वारा भी  उत्तर प्रदेश में निवेश किया जा रहा है। सिंगल विंडो सिस्टम से उद्यम की स्थापना प्रणाली  और भी सरल हुई है।

जिलास्तरीय ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में 3000 निवेशकों ने दिये 92 हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव, 70 हजार करोड़ के निवेश के एमओयू साइन किए है । करीब  05 लाख लोगों को   रोजगार मिलेगा। कहा कि लखनऊ में 10 फरवरी से आयोजित होने वाले ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट से पूर्व जिले को मिली बड़ी सफलता मिली है।  सिंगल विंडो सिस्टम से  मिनटों में समस्याओं का समाधान  हो रहा है।   कहा कि यह गर्व का क्षण है जब प्रदेश की स्थिति को विगत 05 वर्ष में इतना अच्छा बनाया गया है कि देश-विदेश में यहां की सुधरी हुई कानून व्यवस्था की चर्चा है। आज जनपद गाजियाबाद में 92 हजार करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्ताव एवं 70 हजार करोड़ के एमओयू उसी का सुखद परिणाम हैं। उन्होंने कहा कि एक निवेशक तभी निवेश करता है जब वह अपने निवेश के प्रति सुरक्षित रहने के लिए  पूरी तरह से आश्वस्त होता है।

  अब तक ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के लिये 17 लाख करोड़ से अधिक के निवेश का लक्ष्य रखा गया है। आज 25 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश के विकास का एक ही एजेण्डा है कि बिना किसी भेदभाव व भ्रष्टाचार के एक-एक व्यक्ति तक विकास का उजाला पहुॅचे। उत्तर प्रदेश बाहें फैलाकर आपके स्वागत को तत्पर है, इकाई स्थापना में कोई अड़चन नहीं आने दी जाएगी। प्रदेश में औद्योगिक नीतियों को उद्यमियों के अनुसार बदला गया है ताकि अधिक से अधिक रोजगार सृजन के अवसर मुहैया हो सकें। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि डीएम  राकेश कुमार सिंह के नेतृत्व में 08 फरवरी तक निवेश का यह आंकड़ा एक  लाख करोड़ को भी पार कर जाएगा।

यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट रचेगी विश्व में नया इतिहास, विकास व रोजगार के खुलेंगे नए द्वारा : राकेश सचान

 कैबिनेट मंत्री एमएसएमई, खादी ग्रामोद्योग, रेशम उत्पादन, कपड़ा उप्र राकेश सचान ने कहा कि यूपी ग्लोबल समिट के लिए गाजियाबाद ने बड़ा योगदान दिया है। यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट  विश्व में नया इतिहास रचेगी और  विकास व रोजगार के खुलेंगे नए द्वारा खुलेंगे। अपेक्षा से कहीं अधिक निवेश प्रस्ताव आने के बाद यह बात साबित हो गई है कि अब गाजियाबाद औद्योगिक नगरी का स्वरूप वापस लौट रहा है।

रैपिड ट्रेन की शुरूआत होने वाली है। उत्तर प्रदेश के प्रवेशद्वार गाजियाबाद में औद्योगिक माहौल तैयार हुआ तो उद्यमियों ने भी निवेश के लिए अपने कदम आगे बढ़ाए हैं, यह अच्छा संकेत है। उन्होंने कहा कि उद्यमियों ने साबित कर दिया है कि उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  के उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने का सपना न केवल साकार हो रहा है बल्कि अब उत्तर प्रदेश सर्वोत्तम प्रदेश बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

यूपी की इंवेस्ट फ्रेंडली नीति  से निवेशकों में  उत्साह- नरेंद्र कश्यप

 राज्य मंत्री पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग   नरेंद्र कश्यप ने कहा कि जिस तरह से लखनऊ में 10 से 12 फरवरी, 2023 के मध्य ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट होने जा रहा है। उसी तरह आज गाजियाबाद इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन किया गया है। यूपी की इंवेस्ट फ्रेंडली नीति और बेहतर कानून व्यवस्था से निवेशकों में  उत्साह देखने को मिल रहा है। गाजियाबाद पूर्व से ही उद्योग नगरी के नाम से जाना जाता रहा है जिसमें अब और कई नए आयाम एवं कीर्तिमान स्थापित होंगे जिससे जनपद गाजियाबाद की एक नई पहचान पूरी दुनिया के सामने होगी। उन्होंने सभी उद्यमियों व निवेशकों से आह्वान किया कि भयमुक्त शासन एवं सिंगल विंडो क्लीयरेंस नीति का लाभ उठाते हुए अधिक से अधिक निवेश करें।

निवेशक मुख्यमंत्री के वन ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को साकार करने मे करें  सहयोग : राकेश कुमार सिंह

डीएम राकेश कुमार सिंह ने कहा कि यह जनपद के लिये बड़ा हर्ष का विषय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ   के आह्वान पर हम सभी जनपद स्तरीय इंवेस्टर्स समिट में यहां एक दूसरे से रूबरू हो रहे है। उत्तर प्रदेश भारत के विकास का इंजन है और देश की तीसरी सबसे बडी अथर्व्यवस्था है।/जो कि तीव्र गति से वृद्धि कर रही है और उत्तर प्रदेश के विकास का इंजन गाजियाबाद है। जनपद गाजियाबाद, जिसे ’उत्तर प्रदेश के प्रवेश द्वार’ के नाम से जाना जाता है।  निवेशकों हेतु भी सबसे आकर्षक विकल्प के रूप में उभरा है। लगभग 33000 इकाइयों और 12 लाख कर्मचारियों वाली बडी कार्यशील आबादी के साथ जनपद गाजियाबाद में पहले से ही निवेश हेतु बेहतर माहौल और अवसर उपलब्ध है। निवेशक मुख्यमंत्री के वन ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को साकार करने में सहयोग करें।

इनमें और सुधार करते हुए सरकार द्वारा विभिन्न नई नीतियों के माध्यम से उद्यमियों को बहुत सी सहूलियत और अनुदान- सम्बन्धी विभिन्न सुविधाएं भी प्रदान की जा रही है। जिले में 12000 करोड़   का वाषिर्क निर्यात किया जाता है।  जिसमें आयरन, स्टील, इंजीनियरिंग गुड्स, ऑटोमोबाइल पार्ट्स, टेक्सटाइल, इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक गुड्स एवं खाद्य प्रसंस्करण आदि उत्पाद का निर्यात विभिन्न देशों में किया जा रहा है। 24 सरकारी एवं निजी क्षेत्र के औद्योगिक क्षेत्र है। प्रदेश सरकार की नवीन नीतियों से निवेशकों को जागरूक करते हुए एवं ईज ऑफ डूइंग बिजनेस को बढ़ावा देते हुए जो प्रस्ताव विभिन्न सेक्टर के निवेशकों से आमंत्रित किये है। जनपद में  करीब  3000 निवेशकों द्वारा 92 हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव दिये है। जिसमें लगभग 05 लाख के रोजगार मिलने  की संभावना है। उक्त निवेशकों में से 2643 निवेशकों ने  70 हजार करोड़ के एमओयू साइन किए।

उधमी बेखौफ निवेश करें,शासन-प्रशासन आपके साथ: विक्रमादित्य सिंह मलिक

सीडीओ  विक्रमादित्य सिंह मलिक ने कहा कि गाजियाबाद इंवेस्टर्स समिट में बहुत से विषय आपके सामने आएंगे। प्रदेश सरकार में जनपद के विकास एवं निवेश प्रदान करने के लिए अपार संभावनाएं सामने हैं। उद्यमियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पिछले इंवेस्टर्स समिट में भी गाजियाबाद का अच्छा योगदान देखने को मिला और उन्हें आशा है कि इस बार भी आपके द्वारा जनपद में बढ़-चढ़कर निवेश किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन आपके साथ है।  स्थानीय स्तर पर निवेशकों व उद्यमियों की समस्याओं का निराकरण कराने के साथ ही नई इकाइयों की स्थापना के लिये नये आयाम खोले गए।

अन्त में उपायुक्त उद्योग जिला उद्योग प्रोत्साहन तथा उद्यमिता विकास केन्द्र श्रीनाथ पासवान द्वारा समारोह में उपस्थित मंत्री, अधिकारियों एवं निवेशकों का धन्यवाद कर  समारोह का समापन किया। इंवेस्टर्स समिट में महापौर आशा शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष ममता त्यागी, समस्त  विधायक गण, पुलिस कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा, नगर आयुक्त नितिन गौड़, डीएलसी रवि श्रीवास्तव, जिला खादी एवं ग्रामोद्योग अधिकारी संजय श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारी मौजूद  रहे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here