ईल्मचंद इन्सां के लिए उम्र सिर्फ नंबर

  • योगा, 100 मीटर दौड़, ऊंची कूद, स्टीपलचेज

  • हॉफ मैराथन जैसे खेलों की शान है बुजुर्ग खिलाड़ी

सरसा। (सच कहूँ/सुनील बजाज) रुहानी प्रेरणा व दृढ़ विश्वास के साथ मनुष्य हर मंजिल फतेह कर सकता है। यह सिद्ध करके दिखा रहे हैं 90 वर्षीय इल्म चंद इन्सां। जो बुढ़ापे और बीमारियों को मात देकर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मैचों में अपना लोहा मनवा रहे हैं। बुढ़ापे में जब लोग अपना समय इधर-उधर अपने हम उम्र साथियों के बीच में बैठकर व पोते पोतियों की उंगलियां थामकर गुजारते है वहीं इस उम्र में योग का दामन थामकर मेडलों की झड़ी लगा रहे हैं। मूल रुप से उत्तर-प्रदेश के बागपत जिले के गांव रणछाड़ के रहने वाले अंतर्राष्ट्रीय वयोवृद्ध योग खिलाड़ी इलम चंद इन्सां वर्तमान में डेरा सच्चा सौदा में स्थित शाह सतनाम पुरा कॉलोनी में रह रहे हैं। यह जिस भी प्रतियोगिता में खेलने जाते हैं, वहीं से कई पदक लेकर ही लौटते हैं।

इस बार उन्होंने एक-दो नहीं बल्कि पूरे 8 पदक अपने नाम किए हैं, जिसमें 5 स्वर्ण, एक रजत पदक और 2 कांस्य पदक शामिल हैं। तमिलनाडू के चेन्नई में 01 मई से खेली गई 42वें नेशनल मॉस्टर्स एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में पोल वाल्ट में स्वर्ण, 100 मीटर दौड़ में स्वर्ण, चार गुणा 400 मीटर (रिले) में कांस्य, ट्रिपल जंप में कांस्य पदक हासिल किया। 80 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में हरियाणा की ओर से खेलते हुए पदक अपने नाम किया। वहीं इंडियन योगा फेडरेशन की तरफ से श्रीराम कॉलेज, जिला पलवल (हरियाणा) 8 से 10 मई 2022 तक करवाए गए 38वें आॅल इंडिया योगासन स्पोर्ट्स चैम्पियनशिप 2022-23 में ईलम चंद इन्सां ने 50 से 60 आयु वर्ग में खेलते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया। इसके अलावा योगा डैमो में गेस्ट आॅफ आॅनर का पुरस्कार भी दिया गया।

इसके बाद कोलाघाट, पूर्वा, कोलकाता (पश्चिम बंगाल) के कोला यूनियन हाई स्कूल में खेली गई ऑल इंडिया योगासन स्पोर्ट्स चैम्पियनिशप 26 से 28 मई तक (50 वर्ष से अधिक आयु में खेलते हुए) योगासन में स्वर्ण पदक हासिल किया। इसके अलावा योगा डैमा में शानदार मोमेंटो भेंट किया गया। इस बाद गुजरात के वड़ोदरा में 15 से 19 जून तक खेली गई पहली नेशनल ओपन मास्टर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में पोल वाल्ट में स्वर्ण और लांग जंप में रजत पदक हासिल किया। 85 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में हरियाणा की ओर से खेलते हुए पदक अपने नाम किया। बता दें कि ईलम चंद इन्सां अब तक एशियाड, अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय, जिला स्तरीय, और राज्य स्तरीय में लगभग 450 पदक हासिल कर चुके हैं।

पूज्य गुरुजी को दिया जीत का श्रेय

अंतर्राष्ट्रीय वयोवृद्ध योग खिलाड़ी इलम चंद इन्सां ने अपनी जीत का पूरा श्रेय डेरा सच्चा सौदा, सरसा के पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां को दिया। उन्होंने बातचीत के दौरान ने बताया कि उन्होंने पूज्य गुरु जी से एक मुलाकात के दौरान अपनी शारीरिक परेशानियों के बारे में चर्चा की तो पूज्य गुरु जी ने उन्हें कसरत व योग करने की सलाह दी। पूज्य गुरु जी की प्रेरणा के साथ इल्म चंद इन्सां ने पूरी लग्न व दृढ़ शक्ति के साथ कसरत करनी शुरु कर दी। कुछ दिनों में ही वह शारीरिक तौर पर फिट हो गए और उसके बाद आज तक खेलों में भाग ही नहीं ले रहे बल्कि मेडलों की झड़ी लगा रहे हैं। ईलम चंद ने बताया कि वह जीत के बाद यूपी बरनावा के आश्रम में पहुंचे और उन्होंने पूज्य गुरुजी का पावन आशीर्वाद प्राप्त किया।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here