डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों ने बदहाल मिली युवती की 6 माह तक संभाल कर परिवार को सौंपी

0
689

परिवार को पाकर खिल उठा बिटिया का चेहरा

नोएडा (सच कहूँ न्यूज)। डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन प्रेरणा से डेरा अनुयायी मानवता की सेवा में हर दिन कोई न कोई मिशाल कायम करते रहते हैं। इसी क्रम में छह माह पूर्व उत्तर प्रदेश के बरनावा स्थित शाह सतनाम जी धाम के बाहर बदहवास, बेसुध, लावारिस स्थिति में मिली 18 वर्षीय युवती को सेवादार बहनों ने पूज्य गुरु जी की प्रेरणा से मानवीयता के तहत न केवल संभाला बल्कि छह माह तक उसकी पूरी देखभाल भी की। बीते दिनों जैसे ही युवती की यादाश्त वापिस आई तो उसे परिजनों को सौंपा गया।

जानकारी के मुताबिक अलीगढ़ (यूपी) निवासी गजेंद्र पाल सिंह की 18 वर्षीय पुत्री सीमा जब बरनावा स्थित आश्रम के द्वार पर सेवादार बहनों को मिली तो उसकी हालत पागलों जैसी थी। उसे अपना नाम तक याद नही था। बताते हैं कि उसके कपड़े भी मल मूत्र से खराब थे। लावारिश हालत में मिली युवती को सेवादार बहनों ने संभाला। पहले उसे नहलाया, कपड़े बदले फिर उसे डाक्टर को दिखाया, लेकिन कुछ भी बता पाने असमर्थ युवती के बारे में कुछ भी पता नहीं चला।

अंत में सेवादार बहनों ने अपने साथ रखा और उसकी देखभाल करने लगी। इस दौरान उसे नारे का जाप कराते हुए लंगर भोजन दिया जाने लगा तो वो धीरे-धीरे लंगर घर में सेवा भी करने लग गई, लेकिन यादाश्त वापस नहीं आई। लेकिन छह माह बाद अचानक युवती को सब कुछ याद आ गया और उसने अपने परिजनों और घर के पते के बारे में सेवादारों को बताया। इसकी तत्काल ही पड़ताल की गई। परिजनों और उसके एड्रेस को कंफर्म किया गया। दो दिन पूर्व ही यूपी की की 45 मैंबर बहन सुनीता इन्सां, नोएडा सिटी ब्लॉक भंगीदास सतेंद्र इन्सां, 15 मैंबर राकेश इन्सां आदि सेवादार युवती सीमा को उसके परिवार को सौंपने अलीगढ़ पहुंचे। छह माह से लापता युवती के परिजन अपनी लाडली को पाकर बेहद खुश थे। वहीं युवती भी बहुत खुश नजर आई। युवती सहित उसके परिजनों और आसपास के लोगों ने पूज्य गुरु जी व सेवादारों का आभार जताया।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।