वह लेखक जिसकी कल्पनाएं सच साबित हुई

0
255
Albert Einstein

अल्बर्ट आइंस्टीन कहा करते थे, कि कल्पना ज्ञान से ज्यादा महत्वपूर्ण है ज्ञान सीमित होता है जबकि कल्पना पूरी दुनिया को गले लगाती है, विकास को उत्तेजित करती है और विकास को जन्म देती है। एच जी वेल्स ऐसे ही एक महान व्यक्ति थे, जिनकी लिखी कुछ कल्पनाएं सत्य घटनाएं बनी। हरबर्ट जॉर्ज वेल (एच जी वेल्स) एक महान साइंस फिक्सन कहानियों के लेखक थे। वेल्स का जन्म 21 दिसंबर 1866 को इंग्लैंड में हुआ।वे एक सामान्य मध्यम परिवार से थे। ज्यादातर समय पिता के छोटे से दुकान में रहकर बिताते थे।सामान्य स्कूली स्कॉलरशिप पाकर अन्य विषयों के साथ फिजिक्स, केमेस्ट्री,बायोलॉजी और एस्ट्रोनॉमी में शिक्षा प्राप्त की।वेल्स अंग्रेजी लेखन की कई विधाओं में पारंगत थे, जिनमें कई उपन्यास, लघु कथाएँ, और सामाजिक कमेंटरी, इतिहास, व्यंग्य, जीवनी और आत्मकथा शामिल हैं। इसके आलावा उन्होनें मनोरंजन, युद्ध, और खेलों पर भी पुस्तक लिख चुके हैं।

आधुनिक युग मे उन्हें अपने विज्ञान कथा उपन्यासों के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है और अक्सर इन्हें, जूल्स वर्ने और प्रकाशक ह्यूगो गर्नबैक के साथ विज्ञान कथा का पिता कहा जाता है। वेल्स एक अग्रगामी, यहां तक ​​कि भविष्य के सामाजिक आलोचक के रूप में सबसे प्रमुख थे, जिन्होंने वैश्विक स्तर पर प्रगतिशील दृष्टि के विकास के लिए अपनी साहित्यिक प्रतिभा को समर्पित किया। वे एक भविष्यवादी भी थे, कई यूटोपियन कार्यों को लिखा और विमान, टैंक, अंतरिक्ष यात्रा, परमाणु हथियार, उपग्रह टेलीविजन के आगमन और वर्ल्ड वाइड वेब जैसी चीज के आगमन की भविष्यवाणी एच. जी. वेल्स ने ही की थी। उनके विज्ञान कथाओं में समय यात्रा, परग्रहियों द्वारा पृथ्वी पर आक्रमण, अदृश्यता और जैविक इंजीनियरिंग की कल्पना शामिल थी। वेल्स के इतने दूरदर्शी सोच के लिए ही ब्रायन एल्डिस ने ‘शेक्सपियर आॅफ साइंस फिक्शन’ के रूप में संदर्भित किया। वेल्स ने एक असाधारण धारणा के साथ सामान्य विस्तार को स्थापित करते हुए अपने कामों का प्रतिपादन किया, जिसे ‘वेल्स का नियम’ कहा गया।

उनकी सबसे उल्लेखनीय विज्ञान कथाओं में द टाइम मशीन (1895), द आइलैंड आॅफ डॉक्टर मोर्यू (1896), द इनविजिबल मैन (1897), द वार आॅफ द वर्ल्ड्स (1898) और सैन्य विज्ञान कथा द वॉर इन द एयर (1907) शामिल हैं।कॉलेज के दौरान वेल्स ने ‘द क्रोनिक अगोर्नोट्स’ नामक समय यात्रा के बारे में एक छोटी कहानी प्रकाशित की, जिसमें उन्होंने भविष्य की साहित्यिक सफलता को दशार्या।’द टाइम मशीन’ नामक कहानी के प्रकाशन से रातों-रात दुनिया भर में विख्यात हो गए। यह पुस्तक एक अंग्रेजी वैज्ञानिक के बारे में थी जो एक समय यात्रा मशीन विकसित करता है और समय यात्रा करने में सफलता हासिल कर लेता है।

यह अविश्वसनीय था कि वेल्स ‘द टाइम मशीन’ जैसी कोई किताब लिखने में सक्षम होंगे क्योंकि 1890 के दशक में फिजिक्स केवल न्यूटन के अनुसार ही चलता था, और सापेक्षता के नियम के बारे में कोई नहीं जानता था। वास्तव में 10 साल बाद वेल्स के समय यात्रा के काल्पनिक कहानी के सिद्धांत को अल्बर्ट आइंस्टीन ने अपने स्पेशल सापेक्षता सिद्धांत में सच साबित कर कर दिया। ऐसी उनके कई कहानियां सच में तब्दील हुई। वेल्स अपने साहित्य मे नोबेल पुरस्कार के लिए चार बार नामांकित किए गए। शुरूआत मे वेल्स जीव विज्ञान में विशेष रूप से प्रशिक्षण थे, इसलिए नैतिक मामलों पर उनकी सोच एक विशेष और मौलिक रूप से डार्विनियन के संदर्भ में थी।

वे शुरूआती समय से ही एक मुखर समाजवादी भी थे, लेकिन शांतिवादी विचारों के प्रति सहानुभूति भी रखते थे।उनके बाद के कार्य तेजी से राजनीतिक बन गए, और उन्होंने बहुत कम विज्ञान कथाएँ लिखीं, जबकि उन्होंने कभी-कभी आधिकारिक दस्तावेजों पर संकेत देते हुए भी कहा कि उनका पेशा पत्रकार का था। उन्होंने 1934 में चैरिटी द डायबेटिक एसोसिएशन (जिसे आज मधुमेह के रूप में जाना जाता है) की सह-स्थापना की थी।79 वर्ष की आयु में 13 अगस्त 1946 को अज्ञात कारणों से वेल्स की मृत्यु हो गई, रिपोर्टों में यह भी कहा गया है कि लंदन में एक दोस्त के फ्लैट में दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई।। 16 अगस्त 1946 को गोल्डर्स ग्रीन में वेल्स के शरीर का अंतिम संस्कार किया गया; बाद में उनकी राख अंग्रेजी चैनल ओल्ड हैरी रॉक्स में बिखेर दी गई थी।

                                                                                                             -नरपत दान चारण

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।