झुलसा देने वाली भीषण गर्मी के बीच चंडीगढ़ वासियों को खूब भा रहा मटके का पानी

Pitcher Water Sachkahoon

मिट्टी की सौंधी खुशबू और पौषक तत्वों का खजाना है ये पानी

  • पक्षियों के लिए सकोरों और हांडी की भी बढ़ी खरीददारी

सच कहूँ/एम.के. शायना चंडीगढ़। झुलसा देने वाली गर्मी ने आमजन का जीना मुहाल कर दिया है। इस मौसम में ठंडा पानी ही सबसे ज्यादा राहत दे रहा है। कुछ लोग फ्रिज में पानी की बॉटल्स भरकर रखते हैं और ठंडा होने पर उसका सेवन करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस मौसम में फ्रिज से बेहतर मटके का पानी होता है, जो न सिर्फ प्यास बुझाता है, बल्कि आपको कई तरह की बीमारियों से भी बचाता है। बाजार में कोल्डड्रिंक व आइसक्रीम खाने का सिलसिला भी शुरू हो चुका है।

आज स्टार्ट-अप्स की बात के साथ हम एम्प्लॉयमेंट क्रिएशन की चर्चा करते हुए भूल जाते हैं कि आज जिस तरह से हम मटके का खुशबूदार पानी छोड़कर फ्रीज के पानी के पीछे भाग रहे हैं, ऐसा करके न सिर्फ अपनी सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं बल्कि हजारों कुम्हार भाईयों का रोजगार भी उनसे छीन रहे हैं। कोरोना ने जो भयावह स्थिति दिखाई उसके बाद से चंडीगढ़ वासियों ने अपने जीवन में फिर से बदलाव लाना शुरू कर दिया है और वे अपनी सेहत को लेकर भी सजग दिख रहे हैं। ताकि हर बीमारी से बचे रहें।

Pitcher Water

जी हां हम बात कर रहे हैं यहां (Pitcher Water) मटके के पानी की। चंडीगढ़ वासी अब मटके के पानी को फिर से तवज्जो देने लगे हैं। ऐसे में मटका बेचने वालों के चेहरों पर भी मुस्कान लौट रही है। ऐसे ही चंडीगढ़ के सेक्टर 23 में मलोआ निवासी रजनी मटके बेच कर अपने परिवार का पालन पोषण कर रही है। रजनी से जब सच कहूँ संवाददाता से बातचीत में बताया कि लोगों में मटके का पानी पीने का चलन फिर से देखने को मिल रहा है। लोग अपनी पसंद के मटके खरीदते हैं और मिट्टी की सौंधी खूशबू वाला ठंडा पानी पीकर अपनी सेहत का पूरा ख्याल रख रहे हैं। जोकि बेहद अच्छी बात है। इसके अलावा वे दाल बनाने के लिए हांडी, कड़ाई, गोलक और पक्षियों के पानी रखने के लिए सकोरे भी बेच रही हैं।

उन्होंने कहा कि गर्मी के मौसम में चडीगढ़ वासी अपनी सेहत का ख्याल रखने के साथ-साथ बेजुबान पक्षियों के लिए भी बड़ी संख्या में सकोरे खरीद रहे हैं। वहीं उनके पास सामान खरीदने आए गुरजीत, रितेश, पवन, सविता, तनीषा आदि ग्राहकों ने भी मटके के पानी का समर्थन करते सभी को इसके इस्तेमाल की सलाह दी। उन्होंने कहा कि मटके का पानी हमारी सेहत के साथ-साथ पुरातन संस्कृति से जुड़ाव भी बढ़ाता है। बताया जाता है कि मटके का स्वच्छ पानी हमारी इम्युनिटी मजबूत करता है। इसके साथ ही ये टेस्टोस्टरॉन का स्तर बढ़ाता है। इससे एसिडिटी जैसी दिक्कत दूर होने के साथ ही आपके गले को भी आराम मिलता है। Pitcher Water

गले के लिए फायदेमंद 

गर्मियों में जब बाहर से घर में आते हैं तो ज्यादातर लोग फ्रिज खोलकर बोतल में रखा ठंडा पानी सीधे मुँह में डालकर पी लेते हैं, ये गले को बहुत नुकसान पहुंचाता है। क्योंकि गर्मी से आकर ठंडा पानी पीने गले की नाजुक कोशिकाओं का तापमान एकदम से कम हो जाता है, कोशिकाओं में सिकुड़न, सूजन जैसे समस्या आ सकती है, जबकि मटके से गले पर कोई विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता, क्योंकि मटके का पानी (Pitcher Water) प्राकृतिक तौर पर ठंडा होता है।

ब्लड प्रेशर नियंत्रित रखता है

एक्सपर्ट की मानें तो मटके का पानी ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है। मिट्टी के कुदरती तत्व शरीर से टॉक्सिन की मात्रा को बाहर कर देता है, ये बैड कोलेस्ट्रोल को भी शरीर से निकाल देता है, जिससे हार्ट अटैक का खतरा भी कम रहता है।

खून की कमी वाले के लिए वरदान

मटके का पानी खून की कमी वाले व्यक्ति के लिए वरदान है। मिट्टी में भरपूर मात्रा में आयरन होता है, जो मटके के पानी के साथ शरीर में जाता है। ऐसे में जो एनिमिक होता है, उसके शरीर में खून की कमी पूरी हो जाती है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here