जोधपुर में डेंगू का कहर, पौने चार सौ लोग पीडि़त

Dengue
Dengu, Havoc, Jodhpur

शेरगढ़ विधायक मीना कंवर व उनके पति उम्मेद सिंह को डेंगू | Dengue

जोधपुर (एजेंसी)। जोधपुर में डेंगू (Dengue) भयावह रूप ले रहा है। शेरगढ़ विधायक मीना कंवर और उनके पति उम्मेद सिंह को डेंगू हुआ है। दोनों ही दंपती का इलाज डॉक्टर एसएन मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल डॉक्टर अरविंद माथुर कर रहे हैं। दोनों को डेंगू होने की पुष्टि निजी लैब से हुई है। डॉक्टर एसएन मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबायोलॉजी लैब की रिपोर्ट अनुसार अब तक जोधपुर में पौने चार सौ मरीजों को डेंगू हो चुका हैं। वहीं गत एक माह में जोधपुर एम्स में 327 मरीज डेंगू के सामने आ चुके हैं। वही कार्ड टेस्ट के जरिए डेंगू पुष्टि होने का सिलसिला थम नहीं रहा है। हालांकि राज्य सरकार एलिजा टेस्ट को ही मान्य मानती है। अभी तक करीब 1000 से अधिक रोगियों को जोधपुर में कार्ड टेस्ट के जरिए डेंगू सामने आया है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के तमाम प्रयास डेंगू रोकने में विफल साबित हो रहे हैं।

दो दिन में आए डेंगू के 50 मरीज, 1 मौत

जोधपुर में डेंगू के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से डेंगू रोकने के तमाम प्रयास विफल साबित हो रहे हैं। नतीजतन गत दो दिनों में डेंगू के 50 मरीज सामने आ चुके हैं। जबकि रविवार को 23 और सोमवार को 27 डेंगू के मामले सामने आए हैं। पाल निवासी एक मरीज की अहमदाबाद में डेंगू से मौत हो गई। अधिवक्ता रावतराम बिंजारिया ने बताया कि उसके पुत्र प्रद्युम्न को बुखार आने पर 8 अक्टूबर को मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती करवाया। तबीयत में सुधार नहीं होने पर उसे 10 अक्टूबर को अहमदाबाद स्थित अपोलो अस्पताल में भर्ती करवाया गया। 13 अक्टूबर को इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। मृतक पाल सरपंच अनिता बिंजारिया का देवर था।

डेंगू रोगी चाणक्य नगर, पोकरण जैसलमेर, गायत्री नगर, भोपालगढ़, चौपासनी हाउसिंग बोर्ड, कुड़ी भगतासनी हाउसिंग बोर्ड, लूणी, खींवसर, रातानाडा़, शेरगढ़, कमला नेहरू नगर, ओसियां, बीएसएफ अस्पताल, आरएसईबी शास्त्रीनगर कॉलोनी, जालोर, सुगम विहार चौपासनी, बोम्बे मोटर्स, तिंवरी, देचू, सोजत रोड से सामने आए हैं। इस दिन 4 मरीजों को टाइफायड भी हुआ है। बीमारियों की चपेट में आने वाले सभी आयुवर्ग के लोग हैं। ये सभी रोगी, एमजीएच, एमडीएम व निजी अस्पताल से सामने आए हैं।

  • जोधपुर में डेंगू का आंकड़ा साढ़े तीन सौ पार कर चुका हैं।
  • वहीं डिगाड़ी में आधा दर्जन लोगों को कार्ड टेस्ट में डेंगू पॉजिटिव मिला हैं।
  • मच्छरजनित बीमारियों को लेकर शहरभर में लोग परेशान हो गए हैं।
  • कई मरीजों का एलिजा टेस्ट की बजाय कार्ड टेस्ट में ही डेंगू बता उपचार किया जा रहा है।
  • कई जगह स्टूडेंट्स डेंगू की चपेट में आए हैं।
  • इस भयावाह स्थिति से निबटने के लिए स्वास्थ्य विभाग नकारा साबित हो रहा हैं।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।