डेरा अनुयायी ने डेढ़ लाख रुपये और सोने की अंगूठी लौटा पेश की ईमानदारी की मिसाल

0
390
Honesty

सच कैंटीन पर चाय पीने रुका था शादी में जा रहा परिवार

(Honesty)

  • टेबल पर बैग भूल गया था जितेन्द्र सिंह

सीकर (सच कहूँ न्यूज)। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन शिक्षाओं पर चलते हुए डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी ईमानदारी की नित नई-नई मिसाल कायम कर रहे हैं। इसी क्रम में फतेहपुर, जिला सीकर, राजस्थान स्थित सच कैंटीन के जिम्मेवार सेवादार बलदेव सिंह इन्सां ने भूलवश रह गए डेढ़ लाख रुपये नकद व सोने की अंगूठी सहित मिले बैग को उसके वारिस को लौटाकर ईमानदारी का परिचय दिया।

जानकारी के अनुसार फतेहपुर, जिला चुरू स्थित सच कैंटीन पर 27 अप्रैल अल सुबह तीन बजे शादी में जा रहे परिवार के सदस्य चाय आदि पीने के लिए रूके। चाय आदि पीने के बाद ये लोग अपने गंतव्य की ओर रवाना हो गए। इसी दौरान परिवार को एक सदस्य जितेन्द्र सिंह निवासी श्यामपुरा नुआ, तहसील मंडवा, जिला झुंझनू (राजस्थान) कैंटीन पर डेढ़ लाख रुपये की नकदी और सोने की अंगूठी सहित एक बैग भूलवश कैंटीन के टेबल पर छोड़ गया। उनके चले जाने के बाद जब वहां मौजूद सेवादार बलदेव सिंह ने बैग देखा तो उन्होंने उसे संभाल कर रख लिया और आसपास उसके वारिस के बारे में पता किया, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला। इसके बाद सेवादार ने पर्स में से मोबाइल नंबर आदि भी ढूंढना चाहा, लेकिन तब भी कुछ पता नहीं चला।

लगभग डेढ़ घंटे बाद शादी वाला परिवार जब अपने गंतव्य पर पहुंचा तो जितेन्द्र ने बैग देखा तो उसके होश उड़ गए। तत्पश्चात जितेन्द्र सिंह सच कैंटीन पर पहुंचा तो बलदेव सिंह इन्सां ने निशानी आदि पता कर बैग उसे लौटा दिया। इस पर जितेन्द्र सिंह ने बलदेव सिंह इन्सां की ईमानदारी की सराहना की। इस पर बलदेव सिंह इन्सां ने कहा कि ये सब पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन शिक्षाओं की बदौलत ही संभव हुआ है। पूज्य गुरु जी ने हमें शिक्षा दी है कि हमेशा हक हलाल और अपनी नेक कमाई करके ही खाना चाहिए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।