लोहे की रॉड, चाकू, और दरांती के जरिए मौत के घाट उतारने की दी जा रही थी ट्रेनिंग

NIA Raid

नई दिल्ली (सच कहूँ न्यूज)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने कर्नाटक में पॉपुलर फ्रंट आॅफ इंडिया (पीएफआई) , सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आॅफ इंडिया (एसडीपीआई) और आतंकवादियों का समर्थन करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ बेंगलुरु, कालाबुरागी, मंगलुरु, कोप्पला, दावणगेरे, मैसूर और शिवमोग्गा में छापे मारे हैं। आतंकवादी फंडिंग, प्रशिक्षण शिविर आयोजित करने और प्रतिबंधित संगठनों में शामिल करने के लिए और लोगों को कट्टरपंथी बनाने के आरोप में राज्य के कई हिस्सों में कई पीएफआई कार्यकर्ताओं व नेताओं को हिरासत में लिया गया है। एनआईए ने बेंगलुरु में रिचमंड टाउन में पीएफआई के राष्ट्रीय सचिव मोहम्मद साकिब के घर की तलाशी ली। पीएफआई सचिव अफसर पाशा और कर्नाटक प्रदेश अध्यक्ष नासिर पाशा के घरों की भी तलाशी ली गई।

एनआईए ने किया बड़ा खुलासा

एनआईए ने बड़ा खुलासा करते ुए कहा कि ये लोग कराटे ट्रेनिंग सेंटर की आड़ में लोगों को आतंकवादी बनाने की ट्रेनिंग दी जा रही थी। ये कार्रवाई निजामाबाद से गिरफ्तार कराटे टीचर अबिदुल कादर के कबूलनाम के बाद हुई है। ये लोग चॉकू, लोहे की रॉड और दरांती के जरिए मौत के घाट उतरने की टेÑनिंग दी जा रही थी।

क्या है मामला

पीएफआई ने एक बयान में कहा कि इसके राष्ट्रीय, राज्य और स्थानीय नेताओं के घरों पर छापेमारी की जा रही है। राज्य समिति के कार्यालय पर भी छापेमारी की जा रही है। बयान में कहा गया ‘हमारी आवाज को दबाने लिए एजेंसियों के इस्तेमाल करने का हम कड़ा विरोध करते हैं। एनआईए ने मंगलुरु में एसडीपीआई और पीएफआई जिला कार्यालयों में तलाशी अभियान चलाया गया। दक्षिण कन्नड़ में कुलई के पास अब्दुल खादर कुलई के घर पर भी छापे मारे गए। अब्दुल एसडीपीआई के जिला अध्यक्ष अबुबकर कुलई के भाई हैं।

पुलिस धर्म के आधार पर कार्रवाई नहीं करती

कर्नाटक के गृहमंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने कहा कि पुलिस धर्म के आधार पर कार्रवाई नहीं करती है। अगर राष्ट्र के खिलाफ काम करने वाले लोग अल्पसंख्यक हैं तो पुलिस क्या कर सकती है। पुलिस यह देखकर कार्रवाई नहीं करती कि अपराधी किस धर्म के हैं। ज्ञानेंद्र ने कहा ह्ल कुछ दिन पहले आईएस से जुड़े दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था, जो सार्वजनिक स्थानों पर बम विस्फोट करके समाज में दहशत पैदा करने की योजना बना रहे थे। शिवमोग्गा पुलिस ने इसका खुलासा किया। मैं उनके प्रयासों को सलाम करता हूं। एनआईए सूत्रों ने बताया कि बाजपे, जोकट्टे, कावूर और कुलाई में एसडीपीआई और पीएफआई नेताओं के कई घरों पर भी तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

टीएमसी नेता अनुब्रत की हिरासत अवधि पांच अक्टूबर तक बढ़ी

पश्चिम बंगाल के आसनसोल में केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने तृणमूल कांग्रेस नेता अनुब्रत मंडल की न्यायिक हिरासत अवधि पांच अक्टूबर तक बढ़ा दी। यह जानकारी अदालत के सूत्रों ने दी। विशेष अदालत के न्यायाधीश राजेश चक्रवर्ती ने मंडल और सीबीआई के वकीलों के तर्क-वितर्क सुनने के बाद मंडल की न्यायिक हिरासत अवधि दो सप्ताह और बढ़ाने का आदेश दिया।

सूत्रों ने बताया कि मंडल के वकीलों ने दुर्गा पूजा और त्योहारों के माह का हवाला देते हुए जमानत के लिए प्रार्थना की और कहा कि उनका मुवक्किल अपने घर पर पूजा करेगा। न्यायाधीश ने जमानत याचिका को खारिज करते हुए मंडल की हिरासत दो सप्ताह और बढ़ाने का आदेश दिया। सीबीआई ने मंडल को 11 अगस्त को उनके बीरभूम आवास से मवेशियों की तस्करी के मामले में गिरफ्तार किया था।

मणिपुर में पीएलए का स्वयंभू मेजर गिरफ्तार

असम राइफल्स और मणिपुर पुलिस ने मिलकर प्रतिबंधित पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के एक स्वयंभू मेजर को मंगलवार को बिष्णुपुर जिले के मोइरांग इलाके से गिरफ्तार किया। यह जानकारी बुधवार को असम राइफल्स के अधिकारी ने दी। असम राइफल्स के अधिकारी ने कहा कि पीएलए का एक वरिष्ठ अधिकारी संयुक्त बल द्वारा चलाए गए एक संयुक्त अभियान में पकड़ा गया। वह कथित रूप से युवाओं की भर्ती, आईईडी की धमकी और राजस्व संग्रह करने में शामिल था। आगे की जांच के लिए उसे मोइरांग पुलिस स्टेशन के हवाले कर दिया गया।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here