अब रूसी को कहे बाय-बाय

0
633
Hiar

अजकल प्रदूषण या समय के अभाव के कारण सही तरह से बाल का देखभाल करने का समय नहीं मिलना या तरह-तरह के नए हेयर स्टाइल और हेयर प्रोडक्ट इस्तेमाल करने के कारण लोगों को रूसी होने की परेशानी झेलनी पड़ती है। आमतौर पर लोग रूसी की परेशानी से राहत पाने के लिए घरेलू नुस्खे अपनाते हैं, क्योंकि रूसी के कारण बाल भी झड़ने लगते हैं। हमारे शरीर में उपस्थित कफ और वात दोष के असंतुलित हो जाने पर सिर की त्वचा पर सफेद पपड़ी जैसी फफूंदी जमने लगती है जिसे ‘रूसी’ कहते हैं। आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर में वात-पित्त-कफ दोष पाए जाते हैं। अगर दोष असंतुलित हो जाए तो हमारे शरीर में बहुत सारी बीमारियां पैदा होने लगती हैं। इसी प्रकार रूसी में मुख्यत पित्त और कफ दोष के असंतुलित हो जाने के कारण यह रक्त में मिलकर खून को गन्दा कर देते हैं। सिर के रोम छिद्र को बंद कर देते हैं। जिससे सिर की त्वचा रूखी होने लगती है और सिर पर पपड़ी जमने लगती है।

रूसी होने के कारण

  •  विटामिन की कमी- हमारे शरीर में बहुत सारे जीवीय तत्व पाए जाते हैं, जो कि हमारे शरीर की वृद्धि के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। जो व्यक्ति अच्छे से खान-पान नहीं करते हैं अथवा जो लोग खाने में जीवनीय तत्व की मात्रा बहुत कम लेते हैं। जो लोग बाहर का जंक फूड जैसे पिज्जा, बर्गर, मैदे से बनी हुई चीजों का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं और हरी सब्जियाँ जैसे; लौकी, तरोई, परवल आदि बहुत कम मात्रा में लेते हैं जिसकी वजह से जीवनीय तत्व की कमी हो जाती है। रूसी में मुख्यत जीवनीय तत्व की कमी की वजह से होने लगती है।
  •  उम्र- यौवनावस्था (15-18) वर्ष की उम्र में हमारे शरीर का विकास बहुत तेज गति से होता है। जिसकी वजह सामान्यत: हार्मोन्स असंतुलित हो जाता है। जिससे कुछ लोगों की सिर की त्वचा ज्यादा तैलीय होने लगती है, जिसके कारण बालों में रूसी होने लगती है। कुछ लोगों में हार्मोन्स असंतुलित होने के कारण सिर की त्वचा रूखी होने लगती है। जिसके कारण सिर की त्वचा पर फफूंदी जैसी पपड़ी जमने लगती है।
  •  लम्बे समय हाई स्टेरॉयड दवा का सेवन करना- जब कोई व्यक्ति हाई स्टेरॉयड मेडिसन ज्यादा लम्बे समय तक लेता है तो उसका इम्युनिटी सिस्टम कमजोर हो जाता है, जिसके कारण हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं, जिसकी वजह से भी रूसी हो जाती है।
  •  हानिकारक केमिकल युक्त हेयर कलर का प्रयोग करना- कई बार अमोनिया युक्त हेयर कलर का इस्तेमाल लम्बे समय तक बालों में करने से सिर की त्वचा रूखी हो जाती है जिसके कारण बालों में रूसी हो जाती है।

मानसिक तनाव- आजकल लोग मानसिक तनाव में ज्यादा रहते हैं, जिस कारण से हमारे शरीर में मौजूद स्ट्रेस हार्मोन का स्राव सामान्य से ज्यादा होने लगता है। जिस कारण से रूसी हो जाती है। आजकल लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो गई है क्योंकि खाने-पीने में पूरी तरह से पोषण नहीं मिलता, बाहर का संक्रामक खाना जैसे- आइक्रिम, कोल्ड ड्रिंक, पिज्जा, बर्गर आदि खाने से हमारे शरीर को पूरी तरह से पोषण नहीं मिल पाता है, जिसके कारण इम्युनिटी कमजोर हो जाती है, हार्मोनल असंतुलित हो जाता है और बालों में रूखापन हो जाता है। सिर पर मृत कोशिकाएं यानि डेड सेल्स सफेद रंग में जमने लगते हैं जिसमें खुजली भी होने लगती है खुजलाने पर पपड़ी जैसी सिर से गिरने लगती है। ज्यादा मात्रा में मीठा खाने से जैसे (चॉकलेट, पेस्ट्री, चीनी) आदि खाने से भी रूसी होने लगती है। पर्यावरण बहुत दूषित होने लगा है जैसे; धूल, मिट्टी, साधनों से निकला धुँआ, तेज धूप आदि कारणों की वजह से सिर की त्वचा के रोम छिद्र बन्द हो जाते हैं, जिससे त्वचा रूखी हो जाती है। रूसी का यह भी एक महत्वपूर्ण कारण है।

रूसी को दूर करने के लिए खान-पान में बदलाव जरूरी

  •  तैल, मिर्च-मसाले वाला खाना ज्यादा नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह वात दोष को बढ़ाकर सिर की त्वचा को रूखा कर देते हैं।
  •  कॉफी, चाय का सेवन बहुत कम मात्रा में करना चाहिए।
  •  हरी सब्जी जैसे लौकी, तरोई, परवल, टिण्डे आदि का सेवन करना चाहिए क्योंकि इनमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के तत्व पाए जाते हैं, जो रूसी को कम करने में मदद करते हैं।
  •  लहसुन की एक या दो कली का सेवन खाली पेट रोज करना चाहिए क्योंकि लहसुन में एंटी फंगल एजेंट पाए जाते हैं, जो रूसी को कम करने में मदद करते हैं।
  •  मूंगफली का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें जिंक और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स अधिक पाए जाते हैं।
  •  तिल तैल का उपयोग बालों में मालिश के रूप में तथा खाने में सब्जी आदि बनाने के रूप में करना चाहिए क्योंकि तिलतेल में अधिक मात्रा में ओमेगा पाया जाता है।

रूसी से बचने के उपाय

सिर की सफाई से करें रूसी का उपचार-
एकत्रित हुई मृत कोशिकाओं और परतों को हटाने के लिए अपने बालों और सिर को अच्छी तरह साफ करें। बालों को धोने के लिए कटेकोनाजोल, सेलेनियम सल्फाइड या जिंक से युक्त शैम्पू का प्रयोग कर सकते हैं। सिर की सतह पर मौजूद परतों को हटाने के लिए बारीक कंघे से अपने बालों को ब्रश करना चाहिए, ऐसा करने से रक्त परिसंचरण मे भी सुधार आएगा।
मालिश से रूसी का इलाज
नारियल या जैतून के तैल को गर्म करके सिर की मालिश करने से रक्त परिसंचरण में सुधार होता है। जब रक्त के संचलन में सुधार होता है, तो रूसी नियंत्रित होती है।
मौसम के बदलाव से बचें
अपने बाल और सिर को मौसम से बचाए। सूरज की किरणों और गर्मी आपके सिर में तेल का उत्पादन बढ़ा सकती है, जिससे रूसी की समस्या बढ़ती है, इसलिए सूरज की किरणों और खराब मौसम के सीधे सम्पर्क से बचने के लिए सिर को ढकें।

जीवनशैली में परिवर्तन तनाव कम करने, संतुलित आहार खाने और शरीर को साफ रखने से आपको रूसी को रोकने में मदद मिल सकती है, यहाँ तक की व्यायाम करने से भी आपको तनाव में राहत मिलती है, जिससे रूसी को रोका जा सकता है, इसलिए नियमित रूप से कुछ प्राणायाम एवं योग करना आवश्यक है।
सूरज की किरणें
सूर्य की किरणों में गीले बालों को सूखाना चाहिए क्योंकि सूर्य की किरणों में विटामिन तत्व पाए जाते हैं, जो रूसी को कम करने में मदद करते हैं।
स्वीमिंग करते समय कैप का इस्तेमाल
स्वीमिंग पूल में तैरते समय हमेशा सिर पर कैप लगाना चाहिए क्योंकि स्वीमिंग पूल के पानी में क्लोरिन पाया जाता है, जो कि बालों के लिए बहुत हानिकारक होता है।
दूसरे के कंघी और तौलिये का इस्तेमाल न करें
किसी अन्य व्यक्ति का तौलियाँ या कंघी का कभी उपयोग नहीं करना चाहिए।

रूसी से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

  •  दही का मिश्रण रूसी करे दूर-
    शैंपू करने के बाद बालों की जड़ों में दही अच्छी तरह लगाकर 15 मिनट तक छोड़ दें। उसके बाद फिर से बाल को धो लें।
  •  नीम तेल रूसी दूर में फायदेमंद- रूसी होने पर नीम का तेल लगाना बहुत लाभकारी साबित हुआ है। यह बालों के रूखे पन को कम करता है तथा सिर की रूसी को जड़ से खत्म कर देता है। क्योंकि नीम एक प्रकृति एन्टी फंगल का भी काम करती है। नीम के तैल में यदि 1 गिरी कपूर की कूटकर मिला कर लगाये तो दो हफ्ते के अन्दर रूसी खत्म हो जाती है।
  •  नारियल का तेल रूसी दूर करने में फायदेमंद –
    200 मि.ली. नारियल के तैल में 5 ग्राम कपूर का पाउडर को मिलाकर लगाने से तीन हफ्तों में रूसी खत्म हो जाती है।
  •  हल्के गर्म तेल के मालिश से रूसी होती है कम-
    बालों में तेल लगाने से पहले तेल को हल्का गुनगुना करके लगाना चाहिए क्योंकि गुनगुना तेल बालों की जड़ में अच्छे से पहुँचता है और बालों में उपस्थित रूसी को भी कम करता है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।