साध-संगत ने विधवा बहन को बनाकर दिया पक्का ‘आशियाना’

0
564

 बहन बलविन्द्र कौर ने पूज्य गुरू जी व साध-संगत को तहदिल से किया शुक्राना

सच कहूँ/अजय वर्मा
लुधियाना। डेरा सच्चा सौदा की ओर से किए जा रहे 135 मानवता भलाई के कार्यों की कड़ी के अंतर्गत ब्लॉक लुधियाना की साध-संगत की ओर से गाँव लोहारा वार्ड नंबर 33 में विधवा बहन को मकान बना कर दिया गया। 25 मैंबर लुधियाना सोनू शर्मा इन्सां ने जानकारी देते हुए बताया कि आर्थिक पक्ष से कमजोर विधवा बहन बलविन्दर कौर के मकान की छत गिर गई थी और बाकी मकान भी खस्ताहाल में था। बहन के छोटे-छोटे बच्चे हैं और घर में कमाई का कोई साधन नहीं है। न ही उसमें हिम्मत थी कि वह अपना मकान बना सके। उक्त महिला ने गांव जिम्मेवारों से मकान बनाकर देने की अपील। इस अपील पर तुरंत ध्यान करते लुधियाना ब्लॉक की साध-संगत की ओर से विधवा बहन बलविन्दर कौर को पूरा घर बनाकर दिया गया।

इस मौके जानकारी देते 45 मैंबर जसवीर सिंह इन्सां ने बताया कि पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन प्रेरणाओं पर चलते साध-संगत अपने -अपने ब्लॉकों में अनेकों ही मानवता भलाई के कार्य कर रही है और आशियाना मुहिम के अंतर्गत साध-संगत ने विधवा बहन को मकान बना कर दिया है।
इस मौके 45 मैंबर जसवीर इन्सां, 25 मैंबर हरीश कुमार, 25 मैंबर सोनू शर्मा इन्सां, 15 मैंबर गुरदीप सिंह, अजय वर्मा, आशु इन्सां, शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैलफेयर फोर्स विंग के सेवादार, गाँव लोहारा और लुधियाना की समूह साध-संगत उपस्थित थी।

डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत का प्रयास प्रशंसनीय: सतपाल सिंह लोहारा

वार्ड नंबर 33 गांव लाहौरा के काऊंसलर सतपाल सिंह ने पत्रकारों से बातचीत दौरान कहा कि डेरा सच्चा सौदा की साध संगत द्वारा जरूरतमंद परिवार को पूरा मकान बना कर दिया गया है, वह बहुत ही प्रशंसनीय कार्य है। उन्होंने कहा कि साध-संगत पहले भी गांव में लगाए पौधों की संभाल और ओर मानवता भलाई कार्य करती रहती है। मैं डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत और संस्था का तहदिल से धन्यवाद करता हूँ।

पूज्य गुरू जी का कोटिन-कोटी धन्यवाद: बलविन्दर कौर

बलविन्दर कौर ने कहा कि वह पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां का कोटिन-कोटी धन्यवाद करती है, जिनकी प्रेरणा के साथ ब्लॉक लुधियाना की साध-संगत ने उसे मकान बना कर दिया। उसने बताया कि उस के मकान की छत गिर गई थी। दीवारों की हालत भी खस्ता थी, जिसमें रहना बहुत ही ज्यादा मुश्किल हो गया था परन्तु जब उसने साध-संगत को मकान बनाने के लिए अपील की तो उन्होंने कुछ दिनों में ही मकान बना कर दे दिया।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।