दिल्ली एनसीआर में झमाझम बारिश से मौसम हुआ सुहावना

0
202
pleasant-weather SACHKAHOON

राष्ट्रीय राजधानी में मानसून ने दी दस्तक

नई दिल्ली (सच कहूँ न्यूज)। चिलचिलाती धूप से परेशान दिल्लीवासियों को मंगलवार की सुबह मानसून की हो रही पहली बारिश ने गर्मी से राहत दी। दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आज सुबह से मानसून की झमाझम बारिश हो रही है। दिल्ली में इस बार मानसून ने देरी से दस्तक दी है।

मौसम विभाग ने बताया कि पिछले 15 वर्षों में पहली बार दिल्ली में मानसून इतनी देरी से पहुंच रहा है। आम तौर पर यहां मानसून के 27 जून तक पहुंच जाता है। मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में सुबह सात से 8.30 बजे की कई इलाकों में तेज बारिश देखी गई। सफदरजंग में 2.5 सेमी, आयानगर में 1.3, पालम में 2.4 और रिज में 1.0 सेमी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने भी आज दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया था।

कल मध्य कश्मीर और हिमाचल में बादल फटने से मची थी तबाही

मध्य कश्मीर के गंदेरबल जिले में सोमवार तड़के बादल फटने के बाद अचानक आयी बाढ़ से कई मकान और सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई। आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया कि वटलार गांव में बादल फटने से एक नदी में बाढ़ आ गयी। बाढ़ की चपेट में कई मकान और सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई है। घटना में हालांकि किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

उन्होंने बताया कि पुलिस और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) की संयुक्त टीम ने संवेदनशील स्थानों से लोगों को निकालने के लिए इलाके में बचाव अभियान शुरू कर दिया है। क्षेत्र में सड़क संपर्क बहाल करने का काम भी जारी है। वहीं हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला शहर के भागसू नाग में बादल फटने से तबाही हुई है। धर्मशाला के मकलोडगंज से करीब दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित फागसू में सोमवार को सुबह बादल फट गया और इसके चलते पानी का लेवल बढ़ गया। इससे कई घरों और होटलों को नुकसान पहुंचा है।

उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में आकाशीय बिजली गिरने से 70 की मौत

वहीं, दूसरी ओर उत्तर प्रदेश समेत देश के कई अन्य राज्यों में आकाशीय बिजली गिरने से 68 लोगों की मौत हो गई है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में बिजली गिरने से मारे गए लोगों के परिवारों के लिए सहायता राशी की घोषणा की है। आकाशीय बिजली गिरने से उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 41 लोग की जान गई है, जबकि राजस्थान में मरने वालों की संख्या 22 है। कई अन्य लोग भी घायल हुए हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlink din , YouTube  पर फॉलो करें।