पराली को खाद में कैसे बदले किसान, पूज्य गुरु जी ने दिए टिप्स | Ram Rahim

msg

‘पराली को जलाएं नहीं, खाद में बदलें किसान’: पूज्य गुरु जी

बरनावा (सच कहूँ न्यूज)। सच्चे दाता रहबर पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने बुधवार सायं आॅनलाइन गुरुकुल के माध्यम से देश के धरतीपुत्रों को खेती से संबंधित अनमोल टिप्स देने के साथ-साथ पर्यावरण के लिए सबसे बड़ा खतरा बनी पराली जलाने की समस्या का भी स्टीक समाधान सुझाया। शाह सतनाम जी आश्रम, बरनावा (यूपी) के खेत में ट्रैक्टर से हल चलाते हुए आॅनलाइन पूज्य गुरु जी ने फरमाया कि जैसे पराली या गेहूं के फानों को ट्रैक्टर की मदद से खेत में ही दबा दिया जाए तो वे जमीन में चले जाएंगे और उससे खाद बन जाएगी। पूज्य गुरु जी ने फरमाया कि ऐसा करने से पराली जलाने की समस्या भी खत्म होगी। क्योंकि आमतौर पर देखा जाता है कि जब भी कोई फसल बोई जाती है तो उससे पहले जमीन में मिनरल्स (पौषक तत्व) डाले जाते हैं, जैसे उसमें नाइट्रोजन या डीएपी वगैराह डालते हैं। पूज्य गुरु जी ने फरमाया कि गहरे हल चलाने से नीचे की मिट्टी ऊपर आ जाती है। अब अगर ऊपर की मिट्टी दो फुट-सवा दो फुट हल की मदद से नीचे चली जाती है तो नीचे की मिट्टी ऊपर आ जाती है तो अलग से कुछ डालने की जरूरत नहीं पड़ती। आपजी ने आगे फरमाया कि गेहूं और धान के खेतों में इस तरह फाने और पराली नीचे जाकर खाद का काम करती है। तो इस तरह से हम खाद भी बना लेते हैं और ऊपर से जो इतना कुछ डालना पड़ता है तो उससे भी बचाव हो जाता है। तो किसानों का फायदा भी और साथ में आर्गेनिक फसल भी बन जाती है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here