सिडनी जेल से 15 अक्तूबर को रिहा होगा हरियाणा का विशाल जूड

0
383
vishal

करनाल (सच कहूँ न्यूज)। सिडनी जेल में बंद करनाल वासी विशाल जूड 15 अक्तूबर को रिहा हो जाएगा। मामले की सुनवाई के बाद वहां अदालत ने यह आदेश दिए हैं। विशाल जूड की रिहाई के लिए प्रयास करते रहे दोस्त संदीप धनखड़ ने सुबह करीब छह बजे परिवार को यह सूचना दी तो खुशी की लहर दौड़ गई। बाद में विशाल जूड ने भी छह मिनट तक भाई रवि के साथ बातचीत की और बताया कि वह जेल से रिहा होने के बाद घर आएगा। उन्होंने बताया है कि उस पर लगाए गए नस्लीय आरोपों को हटा लिया गया है।

जानकारी के मुताबिक विशाल जूड को कथित तौर पर 16 सितंबर 2020 और 14 फरवरी 2021 के बीच हुए झगड़ों के तीन आरोपों के लिए दोषी ठहराया गया। अंतिम सुनवाई के दौरान अदालत में विशाल के वकील ने जूड को खालिस्तान समर्थक कुछ लोगों द्वारा उकसाए जाने का वीडियो भी पेश किया। इसी वीडियो के कारण यह विवाद हुआ था। जिन आरोपों के लिए जूड को दोषी ठहराया गया है। उसके लिए उनकी गिरफ्तारी के दिन 16 अप्रैल 2021 से छह महीने की जेल की सजा सुनाई गई थी। इस तरह अब जूड की सजा 15 अक्टूबर 2021 को समाप्त होगी।

क्या है मामला

आस्ट्रेलिया में पढ़ाई कर रहे मूल रूप से करनाल वासी 24 वर्षीय विशाल जूड को 16 अप्रैल को सिडनी में तीन आपराधिक घटनाओं में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। भारतीय राष्ट्रवादियों के एक समूह की आस्ट्रेलिया में खालिस्तानियों के साथ झड़प के बाद वहां पुलिस अधिकारियों ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और मारपीट के आरोप में गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद से ही उनकी रिहाई की मांग हो रही थी। स्वजन जहां उसकी रिहाई की मांग को लेकर भरसक प्रयासों में लगे थे तो वहीं उनके समर्थन में करनाल के साथ-साथ पूरे प्रदेश व देश के लोग भी सड़कों पर उतर आए थे। लंबे समय तक मुहिम चलाई गई।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल के प्रयास रंग लाए

इस मामले को लेकर 23 जून को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विदेश मंत्री एस. जयशंकर से बात रिहाई सुनिश्चित करने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की थी। इसके बाद विदेश मंत्रालय ने जल्द उनकी रिहाई का भरोसा दिलाया था। 10 जुलाई को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी व सांस्कृतिक मंत्रालय को विशाल जूड की रिहाई के लिए पत्र भी लिखा था। वहीं इसी मसले पर सांसद संजय भाटिया ने अलग-अलग समय में ज्ञापन के साथ-साथ व्यक्तिगत स्तर पर काफी प्रयास किए थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlinked in , YouTube  पर फॉलो करें।