लापरवाही से बचें आंखों को स्वस्थ रखें

How to Keep Eyes Healthy

आंखें हैं तो दुनिया है। बढ़ते प्रदूषण ने आंखों को अत्यधिक प्रभावित किया है। बुरी आदतों की वजह से भी नेत्रों के रोग बढ़े हैं, ऐसा नेत्र रोग विशेषज्ञों का मानना है। उनके अनुसार, आदतों में सुधार करके बढ़ते चश्मे के नम्बरों में कमी की जा सकती हैं। नेत्र रोग लापरवाही का परिणाम हैं। छोटी-मोटी बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है, अगर रोग को शुरू में ही पकड़ लिया जाए।

दृष्टि दोष

यदि किसी कारण से आंखों की रोशनी कम होती जा रही हो अथवा हो गई हो। उनमें दर्द रहता हो।

उपचार

हल्दी और नीम की नई कोंपलें बराबर मात्रा में लेकर हाथ के खरल में डालकर बारीक पीस लें और पीपल का दूध उसमें मिला लें। इस मिश्रण को पांच दिनों तक घिसते रहें। रोजाना, जब आप इन वस्तुओं को घिसें तब ताजा पीपल का दूध मिला लें। सातवें दिन यह दवा बनकर तैयार हो जाएगी। अब इस दवा को काजल की तरह आंखों में लगाएं। इस दवा का प्रयोग नियमित रूप से एक महीने तक करें। इस अवधि में आंखों की रोशनी का कम होना रुक जाएगा और खोई हुई रोशनी पुन: प्राप्त होने लगेगी। यह आंखों को स्वस्थ और निरोग बनाए रखने के लिए बहुत उपयोगी दवा है।

आंखों के घाव

आंखों में चोट लगने या किसी अन्य कारण से घाव बन जाए।

उपचार

हल्दी की एक मोटी सी गांठ लेकर किसी साफ पत्थर पर चन्दन के समान घिस लें। अब रात्रि को सोते समय इस पेस्ट को आंखों के ऊपर पलकों पर लगाएं और हल्का-सा आंखों में अन्दर भी लगा दें। आंखों के घाव शीघ्र ही भर जाएंगे। इस विशेष पेस्ट को लगाने के बाद आधे घण्टे तक लगा रहने दें। पुन: हल्के गरम पानी से आंखों को किसी साफ कपड़े की सहायता से धोएं। अब सोते समय हल्दी डालकर उबाले गए पानी में कपड़ा भिगोकर आंखों के ऊपर पट्टी रख दें और इस पर पानी की कुछ बूंदें आंखों में भी डाल दें। रोगी की आंखों पर इस पानी में भीगी हुई कपड़े की पट्टी रखने से विशेष लाभ होता है।

आंख में दर्द

कभी-कभी आंखों में बाहरी कीट गिर जाने से अथवा कोई धूल का कण गिरने से, आंख से जब तक वह निकल नहीं जात, दर्द बना रहता है।

उपचार

ऐसे में आंखों के दर्द को दूर करे के लिए थोड़ा पानी गर्म करें। जब पानी उबल जाए तब उसमें दस ग्राम के लगभग हल्दी, पानी में मिला दें और उसे ठण्डा होने दें। जब पानी हल्का गर्म रह जाए तब एक मुलायम साफ कपड़ा लेकर उसे पानी में भिगोकर आंखों को धोएं। इस तरह धोने से जो कुछ आंखों में गिरा होगा, बाहर निकल जाएगा और आंख का दर्द ठीक हो जाएगा। इस पानी की कुछ बूंदें आंखों के अन्दर भी डालनी चाहिए और किसी मुलायम तौलिए से रगड़कर आंखों को साफ कर देना चाहिए। दर्द समाप्त हो जाएगा।

– डॉ. राजीव शर्मा

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here