फ़ेक इंडियन करेंसी छापने वाली फ़ैक्ट्री का भण्डाफोड़

शिकोहाबाद पुलिस ने नकली नोट छापने वाले अन्तर्राज्जीय गिरोह के 5 सदयों को पकड़ा

  • अभियुक्तों से करीब तीन लाख की पकड़ी नकली भारतीय करेंसी
  • नकली नोट छापने की मशीन व भारी मात्रा में उपकरण किए बरामद
  • गैंग का एक सदस्य है थाना टूंडला का है हिस्ट्रीशीटर

फिरोजाबाद ।(विकास पालीवाल) जनपद में नकली नोटों का भंडाफोड़ हुआ है। शिकोहाबाद की पुलिस द्वारा नकली नोट छापने वालों को विभिन्न स्थानों से गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्रवाई की गई। पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश के निर्देशानुसार वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी द्वारा पुरुष्कार घोषित व पेशेवर अपराधियो के विरुद्ध अभियान चलाकर कार्यवाही किए जाने हेतु निर्देशित किया गया था।

यह भी पढ़ें:– जानें, गन्ने की फसल कितने दिन में तैयार होती है | Ganne ki kheti

जिसके अनुपालन में अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण रणविजय सिंह के पर्यवेक्षण व क्षेत्राधिकारी शिकोहाबाद देवेंद्र सिंह के नेतृत्व में शिकोहाबाद पुलिस टीम तथा एसओजी टीम द्वारा मुखबिर की सूचना पर पूर्व में नकली करेंसी छापने के मामले में जेल गए मास्टर माइंड तथा गैंगस्टर के मामले में वांछित 25000 रुपए के इनामी अपराधी तेजेंद्र उर्फ काका को हिस्ट्रीशीटर विक्की बॉक्सर समेत 05 साथियों के साथ मैनपुरी चौराहा से नकली भारतीय करेंसी के साथ गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए लोगों ने अपने नाम तजेन्द्र उर्फ काका पुत्र हरभजन सिंह निवासी गुरुद्वारा सिंह साहब ब्लाक 9 मोतीनगर थाना मोतीनगर नई दिल्ली, नारायण दत्त पुत्र त्रिमन सिंह निवासी ग्राम तबालपुर थाना ढोलना जनपद कासगंज, विक्रम सिंह जादौन पुत्र स्व0 श्रीपाल सिंह नि0 ग्राम जवाहरपुर पोस्ट कातकी थाना रजावली फिरोजाबाद, विकास उर्फ विक्की बाक्सर पुत्र मुन्नालाल निवासी सरस्वती नगर थाना टूंडला तथा रंजीत पुत्र सुरेश नि0 खटीक टौला कस्बा बाह जनपद आगरा बताए।

इनके कब्जे से दो लाख सत्तानवे हजार सौ रुपये के नकली नोट मिले है, जो 500 व 50 के नोट है। इसके अलावा दो लैपटाप, 2 प्रिन्टर कैनन कम्पनी, पावर प्रेस मशीन, 01 ग्रीन पन्नी रोल , 50 रुपये के नोट की छपी हुई 20 सीट जिनके दोनो तरफ प्रत्येक सीट पर 03-03 नोट छपे है , हथोडी, चार्जर, तार रोल ग्रीन फॉयल नोट मे डालने वाला तार , दो पैमाना , दो कटर मय ब्लेड, 05 मोबाईल आदि बरामद किए गए है।

मास्टरमाइण्ड 25 हजार का इनामी है तजेंद्र

तजेन्द्र उर्फ काका पर साउथ दिल्ली, शाहदरा, रोहनी दिल्ली, इन्दिरापुरी, सैन्ट्रल दिल्ली, थाना दक्षिण, थाना शिकोहाबाद आदि में डेढ़ दर्जन मामले तथा विक्की बाक्सर उर्फ भानुप्रताप पर फीरोजाबाद जिले के विभिन्न थानों तथा आगरा आदि जिलों में 22 मामले दर्ज हैं।

दो साल पहले भी हुआ था नकली नोटों का खुलासा

शिकोहाबाद। 10 मार्च 2021 को भी तजेंद्र सिंह उर्फ काका को पांच आरोपियों के साथ नकली नोट छापते हुए शिकोहाबाद पुलिस ने गिरफ्तार किया था । उस समय इससे एक लाख 92 हजार रुपये के नकली नोट मिले थे । उस समय नोट छापने की फैक्टरी शिकोहाबाद थाना क्षेत्र की आवास विकास कॉलोनी में पार्क के सामने लगाई थी।

गिरफ्तार करने वाली ये हैं पुलिस टीम

शिकोहाबाद प्रभारी निरीक्षक हरवेन्द्र मिश्रा, एसओजी प्रभारी नितिन कुमार त्यागी, एसआई विक्रांत तोमर, एसआई पुष्पेन्द्र कुमार, प्रशांत कुमार, प्रवीन कुमार, अनिल कुमार, रवीश, कृष्ण कुमार, पवन कुमार, संदीप कुमार, होमगार्ड कौशल किशोर ।

तिहाड़ जेल में कोरल सॉफ्टवेयर की ली थी ट्रेनिंग – एसपी ग्रामीण

एसपी ग्रामीण रणविजय सिंह ने मामले में कुछ नया बताते हुए बताया कि मुख्य सरगना तेजेंद्र उर्फ़ काका दिल्ली का रहने वाला है और वह तिहाड़ जेल में एक मामले में कई साल पहले बंद हुआ था। इस दौरान उसने वहां पर स्किल डेवलपमेंट एनजीओ की मदद से कोरल सॉफ्टवेयर की ट्रेनिंग ली। तिहाड़ जेल में ही ट्रेनिंग के बाद जेल से निकलने के उपरांत उसने इस तकनीक के द्वारा नकली नोट छापने का धंधा शुरू कर दिया था।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here