नौकरी दिलाने के नाम पर 73 युवकों से हड़पे 27 लाख रु.

0
185
Cyber thugs fraudulently rob 16 lakh

सावधान! बढ़ती बेरोजगारी के दौर में ठग बना रहे लोगों को शिकार

  • उचाना थाना में 7 नामजद, जांच शुरू

सच कहूँ/दिलबाग अहलावत
जीन्द। कोर्ट तथा अन्य विभागों में नौकरी लगवाने का झांसा देकर 73 युवकों से 27 लाख रुपए ले लिए। फिर उन्हें न तो नौकरी दिलवाई और न ही रुपए वापस किए। उचाना थाना पुलिस ने इस मामले में 7 लोगों को नामजद कर उनके खिलाफ धोखाधड़ी कर रुपए हड़पने के आरोप में विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दिल्ली के रहने वाले पति-पत्नी ने झांसे में लिया

उचाना मंडी के यशपाल ने एसपी कार्यालय में दी शिकायत में बताया कि सुलतानपुरी (दिल्ली) निवासी सोहन गोयल और उसकी पत्नी किरण गोयल से वह अक्तूबर 2019 में किसी मामले में रोहिणी दिल्ली कोर्ट में मिले थे। सोहन गोयल ने बताया था कि वह पंजाब एव हरियाणा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस का रीडर है और विशेष कार्य से रोहिणी कोर्ट दिल्ली में आता-जाता है। उसने कहा कि नौकरी वगैरा का काम हो तो बता देना। सोहन ने बताया था कि सुमित और जितेन्द्र जैन हाईकोर्ट चंडीगढ़ में बहुत बड़े अफसर हैं, जो भी चण्डीगढ़, हरियाणा, दिल्ली, पंजाब की नौकरी निकलती है। इन्हीं 2 लोगों के माध्यम से ही निकलती है।

जब मिलने को कहा तो कॉन्फ्रेंसिंग से करवाई बात

एक बार उनसे मिलने के लिए बोला तो उसने कहा कि ये बहुत बड़े अफसर है। ये किसी से नहीं मिल सकते। उनका फोन मांगा तो बोला कि इनका फोन ट्रेस पर होता है। वह कॉन्फ्रेंस पर बात करवा सकता है और फिर उसने कॉन्फ्रेंस पर बात भी करवाई। जब भी किसी युवक के कागजात भेजता तो सोहन गोयल उनसे कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बात करवाता। उसे कहता कि चिंता ना करो एक भी युवक नहीं बचेगा। पैमैंट जल्दी भेज दिया करो। वह दिल्ली स्थित उनके घर में जब भी जाता तो इसका भाई विष्णु गोयल और इसकी बहन शारदा मिलते थे।

हाईकोर्ट और रोहिणी कोर्ट में वैकेंसी निकलने पर किया संपर्क

फिर कुछ दिन बाद सोहन गोयल ने उसे फोन पर बताया कि पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट और रोहिणी कोर्ट दिल्ली में वैकेंसी निकली हुई है। किसी परिचित को नौकरी लगवा सकते हो। जिसमें जैम्बर अटैंडेंट, जूनियर असिस्टैंट, पर्सनल असिस्टैंट और चपड़ासी की वैकेंसी है।

घर आकर ले गए थे रकम

फिर उसने धीरे-धीरे सभी युवकों के कागजात और फोटो व्हाटसअप पर भेजे। फोन पर सोहन गोयल और किरण गोयल से बात होने पर दोनों 15 मार्च 2020 को उसके घर उचाना आए। फिर उनको कुल 27 लाख रुपए दे दिए। सिक्योरिटी के तौर पर सोहन ने उसकी डायरी में लिखकर साइन कर दिए और 5 चेकों पर रुपए भरकर उसको दे दिए। ***महिला को नकली जज बनाकर दिलाया इंटरव्यू

फिर 4 अगस्त 2020 से लेकर 18 सितम्बर तक कई युवाओं के रोहिणी कोर्ट कमरा नम्बर 405 में शारदा नामक महिला, जो कि जज की ड्रैस में बैठी थी। उनके सामने इंटरव्यू करवाया। उसके बाद कहा कि अब पेपर दिलवाना है और इसके लिए साइट पर जाकर रोल नम्बर डाउनलोड कर लेना।

युवकों के नाम न मिलने पर हुआ शक

जब उन्होंने साइट चैक की तो उन युवकों का कहीं कोई नाम नहीं था। फिर उन्होंने कहीं और से रोल नम्बर निकलवाने की कोशिश की तो वहां से भी रोल नम्बर नहीं निकले। उनको धोखाधड़ी के बारे में पता चलने पर उनसे बात की तो वह आना-कानी करने लगे। जब उनसे रुपए वापस मांगे तो देने से मना कर दिया। जांच अधिकारी एएसआई बलवान सिंह ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में 7 लोगों को नामजद कर उनके खिलाफ धोखाधड़ी कर राशि हड़पने के आरोप में विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।