सीएम खट्टर का विरोध करने आए किसानों पर लाठीचार्ज, कई घायल

0
672

-प्रदेशभर के धरतीपुत्रों में रोष, हाइवे और रोड़ किए जाम

करनाल (सच कहूँ न्यूज)। करनाल में घरौंडा के पास बसताड़ा टोल प्लाजा पर भाजपा नेताओं को रोकने की कोशिश कर रहे किसानों पर शनिवार को पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। बताया जा रहा है कि टोल की दो-दो क्रॉसिंग छोड़कर बाकी को किसानों ने बंद कर दिया था। पुलिस ने किसानों से रास्ता खोलने के लिए कहा। लेकिन किसानों ने रास्ता खोलने से इंकार कर दिया। तब पुलिसकर्मियों और सुरक्षाकर्मियों ने किसानों पर लाठियां भांजनी शुरू कर दी। इस दौरान कई किसानों के सिर फूट गए। बहते खून के साथ किसान पुलिस लाठीचार्ज से बचने के लिए खेतों की ओर भाग गए।
बता दें कि करनाल शहर में भाजपा की संगठनात्मक बैठक थी। लेकिन करनाल पुलिस और प्रशासन ने शहर में एंट्री के सभी प्वॉइंट बंद कर रखे हैं। इसलिए किसान शहर के अंदर नहीं घुस पाए। किसानों ने शहर में कूच करना चाहा, लेकिन पुलिस ने उन्हें घुसने ही नहीं दिया। इसके बाद किसानों ने नेताओं को वहीं पर रोकने की तैयारी करते हुए घरौंडा के नजदीक बसताड़ा टोल की दो-दो क्रॉसिंग छोड़कर बाकी को बंद कर दिया। जैसे ही अधिकारियों की इस बात का पता चला तो वे वहां पहुंचे और किसानों से बात की। लेकिन किसान अपनी बात पर अडिग रहे। तभी अचानक पुलिसकर्मियों ने वहां बैठे किसानों पर लाठियां बरसानी शुरू कर दी। इस दौरान कई किसानों को गहरी चोटें आर्इं। वहीं बताया जा रहा है कुछ पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं।

चढ़ूनी का आह्वान : जाम कर दों सड़कें और टोल

किसानों पर लाठीचार्ज से गुस्साए भाकियू प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा कि पुलिस ने करनाल में किसानों का प्रवेश बंद कर दिया। बसताड़ा टोल पर किसानों पर लाठीचार्ज करके उन्हें घायल कर दिया है, जो सरासर गलत है। मेरी किसानों से अपील है कि लाठीचार्ज के विरोध में वे जहां-जहां भी संभव हो सके सड़कों पर जाम लगा दो। आगे के आदेश तक जाम रखो। टोल पर भी जाम लगाया जाना चाहिए।

यहां-यहां लगा जाम

हिसार : किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज के विरोध में हिसार-दिल्ली हाईवे पर किसानों ने रामायण टोल जाम कर दिया। इससे हाईवे पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई हैं। पुलिस ने वाहनों को खरड़ व रामायण की तरफ डाइवर्ट किया।
करनाल : जींद चौक, बसताड़ा टोल, निसिंग व जलमाना गांव में लगाया जाम
रोहतक : मकड़ौली टोल पर किसानों ने जाम लगाया।
जीन्द : नरवाना में बदोवाल टोल प्लाजा किसानों ने जाम, अलेवा में जाम
कैथल: एनएच-152 पर तितरम मोड़, कैथल-चीका मार्ग पर भागल गांव, पटियाला मार्ग पर हांसी-बुटाना नहर पर चीका में जाम लगाया।
फतेहाबाद : ढाणी गोपाल चौक पर रोड जाम
जींद-करनाल हाईवे जाम
भिवानी : कितलाना टोल पर जाम
सरसा : भावदीन टोल प्लाजा जाम
अंबाला : नेशनल हाईवे जाम, अमृतसर-दिल्ली, दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाईवे जाम
फतेहाबाद : नेशनल हाईवे-9 बाइपास पर जाम, रतिया में बुढ़लाडा रोड जाम
सोनीपत : शंभू बैरियर पर किसानों ने जाम लगाया।
गोहाना: रोहतक-पानीपत हाईवे किया जाम
यमुनानगर: पंचकूला-रुड़की नेशनल हाइवे पर त्रिवेणी चौक कैल बाईपास पर किया जाम
झज्जर: बादली ढासा बॉर्डर पर किया जाम
जींद: जींद के उचाना में किसानों ने जींद-पटियाला-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग
पानीपत: पानीपत टोल प्लाजा जाम
कुरुक्षेत्र: किसानों ने नेशनल हाईवे दिल्ली-अमृतसर जाम किया।
पिहोवा: चंडीगढ़-हिसार हाईवे पर स्थित थाना टोल प्लाजा पर जाम लगाया।

किसानों ने सुबह एक बार करनाल की तरफ बढ़ना चाहा था और कुछ देर के लिए नेशनल हाईवे को भी जाम कर दिया था। किसानों से बात करने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट व पुलिस के अधिकारी गए थे, क्योंकि लोगों को हाईवे जाम होने से परेशानी हो रही थी। किसानों को आराम से प्रदर्शन करना चाहिए था। हाईवे पर यातायात में बाधा डालने वालों को सहन नहीं किया जाएगा।
-डीसी निशांत यादव, करनाल

कानून हाथ में नहीं लेने दिया जाएगा: एसपी

एसपी गंगा राम पूनिया ने किसानों से अपील की है कि वे शांतिपूर्ण तरीके से अपना रोष जता सकते हैं। किसी को कानून हाथ में नहीं लेने दिया जाएगा। हर प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष धनखड़ को दिखाए काले झंडे

बैठक में आ रहे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ का किसानों ने बसताड़ा टोल प्लाजा पर विरोध किया। किसानों ने नारेबाजी कर काले झंडे दिखाए। जिसके बाद पुलिस बल की मौजूदगी में धनखड़ को निकाला गया। किसानों ने पहले ही इस बैठक का विरोध करने का ऐलान किया हुआ था। पहले किसानों को शहर के डेरा कार सेवा में एकत्रित होना था। लेकिन प्रशासन की सूझबुझ के चलते किसान यहां एकत्रित नहीं हो सके तो उन्होंने बसताड़ा टोल प्लाजा पर जाना शुरू कर दिया था।

जगदीप सिंह औलख, करनाल किसान मोर्चा नेता

सरकार द्वारा सोची समझी साजिश के तहत किसानों पर लाठीचार्ज किया गया। किसानों द्वारा मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में कोई व्यवधान नहीं डाला गया। इसके बावजूद किसानों पर पुलिस ने बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज किया, जो अत्यंत निंदाजनक है।

घटनाक्रम पर कांग्रेस ने कहा…

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए कहा कि आज करनाल में हर हरयाणवी की आत्मा पर लाठी बरसाई है। उन्होंने कहा कि धरती के भगवान किसान को लहूलुहान करने वाली पापी भाजपाई सत्ता का दमन दानवों जैसा है। आगे कहा कि सड़कों पर बहते किसानों के शरीर से रिश्ते खून को आने वाली तमाम नस्लें याद रखेंगी। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि याचना नहीं, अब रण होगा, जीवन-जय या मरण होगा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।