पंजाब बता दें कि क्या वह दो फसलों के अलावा किसी अन्य पर एमएसपी देता है: मनोहर

0
442
Farmers Protest
  • सीएम मनोहर लाल की प्रेस कान्फ्रेंस के अहम बिंदू
  • सत्ता में आए तो लोगों को काम के लिए भटकते हुए देखा ऐसा लगा कि अभी आजादी नहीं मिली ही नहीं।
  • हमने राइट टू सर्विस एक्ट बनाया ताकि समय अनुसार काम हो।
  • जो अधिकारी समय के अनुसार काम नहीं कर रहा है उस पर विभागी करती है कार्रवाई।
  • आउट आॅफ अपील सिस्टम बनेगा,, जो तय समय मे काम नही होगा तो ऊपर के अधिकारी के पास अपने आप चला जायेगा काम,, छोटे अधिकारी के खिलाफ होगी करवाई।
  • अधिकारियों के ऊपर टेक्नोलॉजी रखेगी नजर,,, अब अधिकारी नही बच पाएंगे,,,, सॉफ्टवेयर सरकार को बताएगा अधिकारी की कार गुजरी।
  •  भाजपा सरकार सॉफ्टवेयर पर कर रही है ध्यान।
  • सॉफ्टवेयर दिखेगा नही जबकि उनका काम दिखाई देगा।
  •  हमने एचसीएस सिफारिश या मुख्यमंत्री कोटे से लगाने किये बन्द।
  •  7 साल पहले हरियाणा में स्थिति ही कुछ और थी।
  • तबादलों में मोटी सिफारिश।
  • -एचसीएस लगाने की मुख्यमंत्री की पावर थी,,, बिना योग्यता के लगते थे सिफारिश आदमी एचसीएस
  • 547 सेवाएं आॅनलाइन है।। अब दफ्तरों में चक्कर नही काटने पड़ते है। सरल पोर्टल बनाया।।।
  • 25 लोगो का इंटरव्यू लेने के पश्चात लगाया जाता है योग्य अधिकरी- सीएम विंडो पर शिकायत आती है तो तुरंत होती है करवसी।
  •  3 कानूनों को लेकर भ्रम में चल रहे हैं किसान।
  • कानून बने हुए 2 साल हो गए क्या कोई मंडी खत्म हुई।
  • मंडी खत्म होना तो दूर हमने नई मंडी खोली हैं जिसकी मिसाल सिरसा की नई मंडी है।
  • केंद्र सरकार केवल दो फसल पर एमएसपी देती है जबकि हरियाणा सरकार 10 फसलों पर एमएसपी देती है।
  •  हम अनाज की स्मगलिंग रोक रहे हैं।
  •  हरियाणा के किसानों को मिल रहा है इसका लाभ।
  • भू मालिक नहीं बल्कि फसल बीजने वाले किसान को दिए जाते हैं सभी फायदे।
  •  पानी को बचाने के लिए धान की फसल को कम कर रहे हैं हरियाणा में।
  •  हरियाणा में हम दे रहे हैं ग्रीन सब्सिडी।
  • धान की बिजाई नहीं करने वाले किसानों को दी जा रही है सब्सिडी ।

चंडीगढ़ अश्वनी चावला। हरियाणा के सीएम मनोहर लाल की अपनी सरकार के 2500 दिनों का हिसाब-किताब दे रहे हैं। मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने कहा कि हरियाणा का इस मौके नया स्‍लोगन निरंतर विकास, 2500 दिनों का सफल प्रयास’ दिया। उन्‍होंने अपनी सरकार कामकाज को लेकर काफी टेबल बुक लांच की। मनोहरलाल चंडीगढ़ प्रेस क्‍लब में पत्रकारों से रूबरू हो रहे हैं। मनोहरलाल के प्रेस क्‍लब में कार्यक्रम के मद्देनजर विभिन्‍न किसान संगठनों के सदस्‍यों ने विरोध प्रदर्शन कर प्रेस क्‍लब तक पहुंचने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उनको रोक दिया है। पूरे क्षेत्र को सील कर दिया गया है और भारी पुलिस बल तैनात है।

  • आगे नही बढेगे किसान,, जब तक चलेगी प्रेस कांफ्रेंस,,, किसान सड़क पर देंगे धरना

करनाल में हुए लाठीचार्ज के पश्चात किसानों का गुस्सा सातवें आसमान पर है। जिसके चलते उन्होंने एक बार फिर से मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का घेराव करने का ऐलान कर दिया है यह भैरव आज चंडीगढ़ में स्थित प्रेस क्लब के बाहर किया जा सकता है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पहले से तय प्रोग्राम के अनुसार चंडीगढ़ प्रेस क्लब में मीट द प्रेस प्रोग्राम में भाग लेने आ रहे हैं। इस प्रोग्राम की भनक किसानों को लगने के पश्चात किसानों ने ऐलान कर दिया है कि वह मुख्यमंत्री के निवास स्थल से लेकर प्रेस क्लब के बीच के रास्तों पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का घेराव कर सकते हैं किसानों के अलग-अलग जत्थे बंदियों की तरफ से इस तरह का ऐलान आने के पश्चात चंडीगढ़ में हरियाणा पुलिस सतर्क हो गई है।

बताया जा रहा है कि चंडीगढ़ के उन रास्तों पर काफी ज्यादा पुलिस फोर्स तैनात की जा रही है जो कि मुख्यमंत्री निवास से लेकर चंडीगढ़ प्रेस क्लब की तरफ रास्ते जाते हैं वहीं चंडीगढ़ प्रेस क्लब के बाहर बड़ी गिनती में पुलिस फोर्स तैनात की गई है ताकि अगर कोई किसान जिथे बनिया प्रोग्राम के दौरान खलल डालने आती है तो उन्हें वहीं पर निपटा जा सके ऐसे में कोई बड़ा नुकसान ना हो इसके लिए उच्च अधिकारियों की ड्यूटी भी वहीं पर लगाई गई है जो कि मौके की स्थिति को भागते हुए फैसला करेंगे।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।