गुना मामले में आरोपियों को खोजने पुलिस का अभियान जारी, दो ढेर, दो हिरासत में

Blackbuck Poachers in MP

गुना। मध्यप्रदेश के गुना जिले के आरोन क्षेत्र में पुलिस बल पर हमला करने के जघन्य अपराध के बाद से पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी जिले में दल बल के साथ मौजूद रहकर आरोपियों को खोजने में जुटे हुए हैं और अब तक दो आरोपियों की मुठभेड़ में मौत हो चुकी है। दो आरोपियों को हिरासत में लेने की खबर भी आयी है। पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपियों को खोजने के लिए जिले के संभावित क्षेत्रों में पुलिस दल लगातार रातभर सर्चिंग अभियान चलाते रहे। इस बीच रात में राघौगढ़ के पास बरौदिया गांव में एक मुठभेड़ हुयी, जिसमें एक बदमाश मारा गया और एक आरक्षक धीरेंद्र को भी गोली लगी है, जिसे इलाज के लिए राघौगढ़ के अस्पताल में भर्ती कराया गया।

ग्वालियर के नए पुलिस महानिरीक्षक डी श्रीनिवास वर्मा भी गुना जिले में ही कल से डेरा डाले हुए हैं। देर रात उन्होंने घटनास्थल पर मौजूद मीडिया को बताया कि दो आरोपियों सोनू उर्फ शफाक खान तथा जिया खान को हिरासत में लिया गया है। इन्हें मुठभेड़ के बाद हिरासत में लिया गया। घटनास्थल से दो हिरण और चार हिरण के सींग भी मिले हैं। यह सामग्री वन विभाग को सौंपी जा रही है। आरोपी पुलिस की एक इंसास राइफल भी लूटकर भागे हैं। वो भी तलाश की जा रही है।

इस बीच सूत्रों ने कहा रात भर आरोन, बजरंगगढ़, राघौगढ़ क्षेत्र में आरोपियों को तलाशने के लिए बड़ा अभियान चलाया गया, जो सुबह तक जारी था। मुठभेड़ में अब तक आरोपियों नौशाद और शहजाद की मृत्यु की पुष्टि हो चुकी है। दो और आरोपियों के मुठभेड़ में मारे जाने की सूचनाएं सोशल मीडिया पर हैं, लेकिन पुलिस प्रशासन ने अब तक इसकी पुष्टि नहीं की है। बताया गया है कि एक दिन पहले पुलिस पर हमले की घटना में अब तक कुल सात आठ आरोपियों के शामिल होने की जानकारी सामने आयी है और उन सभी को गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

दरअसल आरोन क्षेत्र के जंगल में शिकारियों के मौजूद होने की सूचना पर पुलिस बल जीप से गया था। उनका मोटरसाइकल सवार शिकारियों से सामना हो गया था। इस दौरान गोलियां चलने से तीन पुलिस जवान शहीद हो गए थे। पुलिस वाहन चालक गंभीर रूप से घायल है, जिसका यहां जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तत्काल पूरी घटना की जानकारी ली और आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके साथ ही श्री चौहान ने तत्काल ग्वालियर के पुलिस महानिरीक्षक अनिल शर्मा को हटा दिया और डी श्रीनिवास वर्मा को पुलिस महानिरीक्षक पद की कमान सौंपते हुए उन्हें तुरंत मौके पर भेजा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here