नन्हें वैज्ञानिकों की तलाश के लिए खुला पोर्टल

0
346
Inspire Award Standard

इंस्पायर अवार्ड मानक: सरकारी व निजी स्कूलों के छठी से दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थी बन सकते हैं भागीदार

15 अक्तूबर तक होगा नामिनेशन

सच कहूँ/सुनील वर्मा
सरसा। 10 से 15 साल के विद्यार्थियों के बेहतर आइडियाज को मूर्त रूप देने के लिए इंस्पायर अवार्ड मानक योजना के लिए नामिनेशन प्रक्रिया शुरू हो गई है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) भारत सरकार की इस योजना के तहत आनलाइन आवेदन ई-एमआईएएस पोर्टल पर शुरू हो चुके हैं। जोकि 15 अक्टूबर तक जारी रहेंगे। विद्यालय की ओर से विद्यार्थियों के आॅरिजनल आइडियाज, इनोवेशन में से 5 सबसे बेहतर नोमिनेशन इस योजना के लिए भेजे जा सकते हैं। योजना में कक्षा छठी से दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले सरकारी व प्राइवेट मान्यता प्राप्त विद्यालयों के विद्यार्थी भाग ले सकते है। इस योजना में जिला स्तर पर 10 हजार व राज्य स्तर पर 1 हजार विचारों का चयन किया जाएगा। जबकि देशभर में एक लाख विद्यार्थी चयनित होंगे। बता दें कि वर्ष 2009-10 में भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने इंस्पायर अवार्ड योजना की शुरुआत की थी।

विद्यार्थियों के बेहतर आइडियाज को मूर्त रूप देने में इंस्पायर अवार्ड मानक योजना कारगर साबित हो रही है। योजना के तहत नामिनेशन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। 15 अक्टूबर तक आनलाइन नामिनेशन जारी रहेंगे। विद्यार्थियों की इसमें भागीदारी ज्यादा से ज्यादा हो, इसके लिए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को अवगत करवा दिया है।
-संत कुमार, जिला शिक्षा अधिकारी, सरसा।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को मजबूती प्रदान करने की इंस्पायर अवार्ड मानक महत्वपूर्ण योजना है। जो विद्यार्थियों को अपनी प्रतिभा निखारने के लिए एक बेहतर मंच उपलब्ध करवा रही है। योजना के बीते शिक्षा सत्र में भी 77 बच्चों के बेहतर आइडियाज का चयन किया गया था।
-डॉ. मुकेश कुमार, जिला विज्ञान विशेषज्ञ व जिला नोडल अधिकारी इंस्पायर अवार्ड्स मानक।

एक लाख विद्यार्थियों को दस हजार का कैश प्राइस

इंस्पायर अवार्ड विद्यार्थियों के क्रिएटिव माइंड को जगाने के लिए दिया जाता है। इससे उनकी आब्जर्वेशन बढ़ती है। अवार्ड के तहत अब 1 लाख विद्यार्थियों को दस हजार रुपये की नकद राशि सीधी उनके खातों में दी जाती है। इस राशि की मद्द से वे अपने आइडियाज को मूर्त रूप देकर उन्हें मॉडल में कंवर्ट करते है। स्कीम में राष्ट्रीय स्तर पर एक हजार आइडियाज को सिलेक्ट किया जाता है और उन्हीं में से अंतिम दौर के लिए कुछ 60 बेहतरीन आइडीयाज चुने जाते हैं।

Sirsa

विद्यार्थी इन बातों का रखें ध्यान

विद्यार्थियों के आइडियाज समाज के लिए उपयोगी, पर्यावरण संरक्षण, कम लागत वाले प्रोजेक्ट आदि पर आधारित होने चाहिए। इसके अलावा किसी प्रकार का निबंध नहीं बल्कि आइडियाज की ब्रीफिंग होनी चाहिए। केवल फोटो अपलोड करने से काम नहीं चलेगा बल्कि प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी भी देनी होगी। अवार्ड के लिए दिए गए पैरामीटर्स को ध्यान में रखना आवश्यक है क्योंकि कहीं से लिया गया या चुराया गया प्रोजेक्ट रिजेक्ट होने की संभावना रहेगी। विद्यार्थी निर्धारित प्रारूप में भारत सरकार से मान्यता प्राप्त सभी भाषाओं में अपना पंजीकरण करवा सकते हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।