पूज्य गुरु जी का खेत जोतने का बिंदास अंदाज

Ram Rahim

बरनावा (सच कहूँ न्यूज)। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां (Ram Rahim) के खेतीबाड़ी हुनर के चर्चे आज हर जुबान पर है। पूज्य गुरु जी 40 दिन की रूहानी यात्रा पर बरनावा आश्रम पधारे थे और उस दौरान अपने यूट्यूब चैनल सैंटएमएसजी पर आश्रम के खेत में स्वराज ट्रैक्टर चलाते हुए लाइव हुए। करीब आधा घंटे पूज्य गुरु जी ने चैनल पर लाइव होकर खेती के बारे में टिप्स दिए। इस दौरान आपजी ने फरमाया कि किसान जहर मुक्त खेती यानि आर्गेनिक खेती को बढ़ावा दें। इसके साथ ही जिनके पास जमीन है, उन युवाओं से खेती को तरजीह देने का आह्वान किया। गौरतलब है कि पूज्य गुरु जी कृषि के विशेषज्ञ हैं और समय-समय पर किसानों को अमूल्य टिप्स, तकनीक और बारीकियों से अवगत करवाते रहते हैं, जिनको अपनाकर किसान भाई भी लाभ उठा रहे हैं। कर्नाटक, मध्यप्रदेश, यूपी, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, गुजरात, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, तेलगांना, पश्चिम बंगाल समेत विदेश की साध-संगत भी पूज्य गुरु जी को लाइव खेती करते हुए दर्शन किए।

barnava

आत्म-विश्वास बढ़ाने का एकमात्र उपाय सुमिरन

पूज्य गुरु जी ने 7 वर्ष की उम्र में टैक्टर चलाया

आपको बता दें कि पूज्य गुरु जी ने 7 वर्ष की उम्र में ही ट्रैक्टर चलाना शुरू कर दिया था, इतना ही नहीं छोटी सी आयू में ही खेती करना शुरू कर दी थी। किसानों ने पूज्य गुरु जी की तकनीक अपनाकर राष्टÑपति अवार्ड तक जीते हैं। विरासत में मिली खेती को आधुनिक रूप देकर इसे घाटे के सौदे से फायदे का सौदा बनाया। एक ही खेत से एक ही समय में 13-13 फसलें लेने के बारे में कोई सोच भी कैसे सकता है पर आप जी ने कारनामा कर दिखाया है। 50 से 55 डिग्री सेल्सियस में सेब, काजू, बादाम की फसलें लेने वाला अजूबा नहीं तो और क्या है। राजस्थान सीमा से सटे सरसा जैसे रेतीले इलाके में आर्गेनिक फसलों के साथ-साथ औषधीय फसलों की पैदावार होना पूज्य गुरु जी की बदौलत ही संभव हो पाया है। दिल्ली स्थित पूसा कृषि विश्वविद्यालय, पंजाब के लुधियाना स्थित पंजाब कृषि विश्वविद्यालय व हरियाणा के हिसार स्थित कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों की टीमें यहां का कई बार दौरा कर चुकी हैं। वहीं गिरते भू-जल स्तर को रोकने के लिए आप जी की तकनीक ने कृषि वैज्ञानिकों को भी हैरत में डाल रखा है। बेहद सस्ती और उपयोगी रि-यूज वॉटर तकनीक द्वारा पहले इस्तेमाल किए हुए पानी से बार-बार फसलों की सिंचाई की जा सकती है। आपको बता दें कि पूज्य गुरु जी खेतीबाड़ी में बाल्यावस्था में जुट गये थे।

समाज से नशे की रवानगी करने को गीत बन रहा प्रेरणा स्रोत

जागो देश दे लोको-नशा जड़ तों पटणा, जागो दुनिया दे लोको नशा जड़ तों पटणाङ्घ। अब तक आपने नशे के लिए प्रेरणा देने वाले बहुत गीत सुने होंगे, लेकिन युवा पीढ़ी को नशे की दुनिया से बाहर निकालकर उन्हें सभ्य नागरिक बनाने के लिए डेरा सच्चा सौदा प्रमुख संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां द्वारा गाया गया यह गीत अपनी गहरी छाप छोड़ रहा है। समाज के अग्रणी लोग बेहतर प्रयास बता रहे हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here