यूपी विधानसभा चुनाव 2022: कैराना में दिलचस्प होगी जंग

Assembly, Elections, Five, States

शामली (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश में शामली जिले की तीन विधानसभा सीटों कैराना, शामली और थानाभवन पर कांग्रेस के अलावा सभी प्रमुख दलों के पत्ते खुलने के बाद मुकाबला रोचक होने की उम्मीद है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कैराना सीट से सांसद और विधायक रहे स्वर्गीय हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को मैदान में उतारा है जबकि समाजवादी पार्टी (सपा) ने गैंगस्टर के आरोपी विधायक नाहिद हसन पर फिर भरोसा जताते हुए टिकट दिया है। पिछले 11 महीने से फरार नाहिद हसन को पुलिस ने उस समय गिरफ्तार किया है जब वह कोर्ट में आत्मसमर्पण को जा रहे थे। आम आदमी पार्टी (आप) ने कैराना सीट से तरसपाल तथा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से राजेन्द्र उपाध्याय को टिकट देकर भाजपा प्रत्याशी की राह रोकने का दिखावा किया है क्योंकि कैराना विधानसभा सीट पर उपाध्याय बिरादरी के मतदाता निर्णायक भूमिका में है ही नही।

तेजिंद्र निर्वाल शामली सदर विधानसभा सीट से उम्मीदवार

शामली सदर विधानसभा सीट से भाजपा ने अपने मौजूदा विधायक तेजिंद्र निर्वाल को टिकट देकर फिर से मैदान में उतारा है जबकि सपा-लोकदल गठबन्धन प्रत्याशी के रूप में भाजपा छोड़कर लोकदल में गए पूर्व जिला पंचायत अध्यक्षा के पति प्रसन्न चौधरी पर विश्वास जताया है। बसपा ने अपने प्रत्याशी के रूप में बिजेंद्र मलिक व आम आदमी पार्टी ने बिजेंद्र मलिक(कुडाना) को टिकट दिया है। कांग्रेस ने अभी अपने उम्मीदवार की घोषणा नही की है।

सुरेश राणा फिर से मैदान पर

थानाभवन सीट पर भाजपा के कद्दावर मंत्री सुरेश राणा फिर से मैदान पर हैं जहां उनका मुकाबला सपा-लोकदल गठबंधन के अशरफ अली से होगा। उधर बसपा ने राजकुमार सैनी और आप ने अरविंद देशवाल को टिकट थमाया है जिससे सुरेश राणा की मुश्किलें बढ़ी हैं। कांग्रेस अभी इस सीट पर असमंजस की स्थिति में है क्योंकि कांग्रेस भी थानाभवन सीट से सैनी बिरादरी के व्यक्ति को ही प्रत्याशी बनाना चाहती थी लेकिन बसपा द्वारा सैनी प्रत्याशी पर दांव लगाकर कांग्रेस को अपनी सोच बदलने पर मजबूर कर दिया है।

दारा सिंह सपा में शामिल हुए

हाल ही में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को छोड़ने वाले योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने रविवार को समाजवादी पार्टी (सपा) का दामन थाम लिया। सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में यहां स्थित सपा मुख्यालय में चौहान ने अपने समर्थकों के साथ पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर चौहान ने भाजपा पर गरीबों के साथ अन्याय करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में पांच साल में जब समाज के सभी वर्गों में त्राहि त्राहि मच गयी तब उन्हें मंत्री पद छोड़ने का फैसला करना पड़ा। उन्होंने इसे अपनी घर वापसी बताते हुए कहा कि भाजपा ने सत्ता में आने के लिये अपने नारे के अनुरूप साथ तो सबका लिया, लेकिन योगी सरकार में विकास चंद लोगों का हुआ। उन्होंने कहा कि योगी सरकार में गरीब जनता को अनाज राशन देकर गुलाम बनाने की साजिश की जा रही है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।