आशियाना मुहिम के तहत साध-संगत ने डलवाई मकान की छत

0
438
Ashiyana campaign sachkahoon

सचकहूँ/लाजपतराय, रादौर। पूज्य गुरू संत डॉ गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की प्रेरणा पर चलते हुए ब्लाक रादौर की साधसंगत ने आशियाना मुहीम के तहत एक विधवा महिला के मकान की छत डलवाई। आर्थिक तंगी के चलते विधवा महिला के मकान की दीवारें पिछलें 13 साल से बिना छत के खड़ी थी। साधसंगत द्वारा निर्धन महिला के मकान की छत डलवाकर मदद किए जाने की ग्रामीणों ने की सरहाना। प्राप्त जानकारी देते हुए ब्लाक भंगीदास मास्टर दर्शनलाल इन्सां, 25 मैंबर हेमसिंह इन्सां, कवंरभान इन्सां, जयराम इन्सां, जसवंतराय इन्सां, जसपाल इन्सां, अमरसिंह इन्सां, कुंदनलाल इन्सां, यशपाल इन्सां, हरिराम इन्सां, नाथीराम इन्सां, जगतसिंह इन्सां ने बताया कि गांव जुब्बल निवासी बहन सुरेशो देवी पत्नि स्वर्गीय रमेशपाल जो कि आर्थिक तौर से कमजोर होने के चलते अपने मकान की छत नहीं डलवा सकी।

साधसंगत की मदद से बहन सुरेशो देवी के मकान पर लेंटर डलवाया गया। जिसके मकान की दीवारें पिछले करीब 13 सालों से बिना छत के खड़ी हैं। ओर सुरेशों देवी ने इन्हीं खड़ी दीवारों के बीच एक कमरे का आश्रय बनाकर उसमें गुजारा कर रही थी। गांव जुब्बल निवासी सुरेशो देवी ने बताया कि 2007 में उसके पति की मृत्यु हो गई थी तब से वह गांव में ग्रामीण चौंकीदार के तोर से कार्यकर अपना व अपने परिवार का गुजारा कर रहीं। उसी दौरान ही उसने अपने मकान की ये दीवारें खड़ी की थी लेकिन आर्थिक तंगी के चलते वह आज तक इनपर छत नहीं डलवा सकी थी। पूज्य गुरू संत डॉ गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां का धन्यवाद करती हूँ जिन्होने मेरी मदद के लिए अपने शिष्यों को भेजा व 13 साल बाद मकान की छत का आश्रय मिला। सुरेशों देवी ने बताया कि उसकी पांच बेटियां हैं व एक बेटा हैं जिनकी परवरिश करना ही उसके लिए काफी कठिन रहता हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।