सूरतगढ़ सब जेल की तलाशी में चार मोबाइल फोन, चार्जर और यूएसबी केबल मिली, चार पर मुकदमा

सूरतगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। सूरतगढ़ में सब जेल में तलाशी के दौरान चार मोबाइल फोन, दो चार्जर और एक यूएसबी केबल बरामद हुई है। इस संबंध में 4 बंदियों के खिलाफ जेल के एक प्रहरी सुशील जाट (30) निवासी निरवाना द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है। सूरतगढ़ सिटी पुलिस के मुताबिक सब जेल में सोमवार दोपहर 12:00 से 2:00 के दौरान जेल स्टाफ द्वारा तलाशी अभियान चलाया गया। अभियान के दौरान मोबाइल फोन, चार्जर और यूएसबी केबल बरामद हुई।सुशील कुमार जाट प्रहरी द्वारा बाद में दी गई रिपोर्ट के आधार पर राजस्थान कारागार अधिनियम 2015 की धारा 42 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। प्रहरी सुशील जाट ने रिपोर्ट में बताया कि बैरक नंबर 1 में नशीली दवाओं के एक मामले में निरुद्ध बंदी मोहित पुत्र रमेश ब्राह्मण निवासी वार्ड नंबर 22 रावतसर के बिस्तर में गोल्डन ब्लैक कलर का एक मोबाइल फोन बिना सिम कार्ड के बरामद हुआ।

यह भी पढ़ें:– मदद करने का ऐसा जज्बा, कोई इनसे सीखे…

मोहित को पुलिस ने 2020 में अवैध रूप से नशीला पदार्थ रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था। अदालत के आदेश पर वह 6 जनवरी 2021 से जेल में निरूद्ध है।इसी प्रकार नशीली दवाओं के ही एक मामले वर्ष 2020 के एक मामले में 23 जुलाई 2020 से निरुद्ध बंदी कृष्ण कुमार धानक पुत्र मेघराज निवासी वार्ड नंबर 45 सूरतगढ़ के बिस्तर में भी सैमसंग का एक बिना सिम कार्ड वाला मोबाइल फोन तथा एक चार्जर बरामद हुआ।तीसरा मोबाइल फोन काकूसिंह पुत्र प्रीतमसिंह रायसिख निवासी अमरपुरा राठौड़ थाना पीलीबंगा जिला हनुमानगढ़ के बिस्तर में मिला। काकूसिंह भी वर्ष 2019 में नशीली दवाओं के एक मामले में 28 नवंबर 2019 से जेल में निरुद्ध है। उसके बिस्तर में नोकिया कंपनी का बिना सिम कार्ड का मोबाइल फोन मिला। चौथा मोबाइल फोन 26 अक्टूबर 2020 से निरूद्ध बंदी साजनराम पुत्र किशनलाल नायक निवासी बांडा कॉलोनी अनूपगढ़ के बिस्तर में मिला। उसके बिस्तर में मोबाइल फोन के साथ एक चार्जर भी बरामद हुआ।

साजन राम भी वर्ष 2020 में नशीली दवाओं के एक मामले में पकड़ा गया था। पुलिस के मुताबिक प्रहरी सुशील जाट ने रिपोर्ट में बताया है कि बैरक नंबर 2 के पांच नंबर जंगले के पास सैमसंग कंपनी का सफेद रंग का एक मोबाइल फोन मिला। इसमें भी सिम कार्ड नहीं था।मोबाइल फोन के साथ चार्जर और यूएसबी केबल भी मिली है। जेल स्टाफ ने मोबाइल फोन चार्जर और केबल पुलिस के सुपुर्द की है। आशंका जताई जा रही है कि मोबाइल फोन का जेल से अपराधिक गतिविधियों में उपयोग किया गया है। जेल स्टाफ ने पुलिस से आग्रह किया है कि मोबाइल का कॉल रिकॉर्ड हासिल कर इसकी जांच की जाए। इसमें शामिल अन्य लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाए।अभी यह खुलासा नहीं हुआ है कि यह मोबाइल फोन जेल में पहुंचे कैसे। पुलिस ने कहा कि इसकी भी जांच की जाएगी। जिन बंदियों के बिस्तरों में मोबाइल फोन बरामद हुए हैं, उन्हें अदालत से प्रोडक्शन वारंट जारी करवाकर पुलिस पूछताछ के लिए अपनी हिरासत में लेगी।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here